--Advertisement--

20 दिन से इस डीप फ्रीज में पड़ी थी आनंदपाल की लाश, घरवाले ने इसलिए किया ऐसा

20 दिन से इस डीप फ्रीज में पड़ी थी आनंदपाल की लाश, घरवाले ने इसलिए किया ऐसा

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2017, 06:56 PM IST
लाश को पोस्ट मार्टम के लिए ले ज लाश को पोस्ट मार्टम के लिए ले ज
नागौर/जयपुर. आखिर 19 दिन बाद गैंगस्टर आनंदपाल के शव का गुरुवार शाम अंतिम संस्कार कर दिया गया। शाम सवा सात बजे परिजनों और ग्रामीणों की मौजूदगी में शव की अंत्येष्टि कर दी गई।  बताया जा रहा है कि गैंगस्टर के शव की हालत बेहद खराब हो गई थी। लाश फूल गई थी और उसमें से बदबू आ रही थी।
 
 
 
आनंदपाल का शव उठाने गए सफाई कर्मियों ने घर जैसे ही डीप फ्रीजर की दरवाजा खोला बदबू चारों और फैल गई। इसके बाद डीप फ्रीज का दरवाजा फिर से बंद कर दिया गया। फिर शव को अर्थी पर ले जाने की जगह डीप फ्रीज को ही शव सहित एंबुलेस में रख श्मशान ले जाया गया।
शव यात्रा में शामिल शासकीय अमले के लोग, शव उठाने आई सफाई कर्मी और पुलिस के अधिकारी और जवान पूरे समय मास्क लगाए रहे। श्मशान में जैसे ही शव को चिता पर रखने निकाला गया लोग बदबू के कारण परेशान हो गए।
 
19 दिन से रखा था शव
 
- आनंदपाल का शव 19 दिन से रखा हुआ था। अंत्येष्टि के दौरान सांवराद गांव में भारी पुलिस बल तैनात रहा। कर्फ्यू के बीच किसी भी आम आदमी को गांव में प्रवेश नहीं दिया गया। मीडियाकर्मी को भी जाने की इजाजत नहीं दी गई।
- अंतिम संस्कार के दौरान डीजी जेल अजीत सिंह, आईजी मालिनी अग्रवाल, नागौर एसपी परिस देशमुख, संभागीय आयुक्त अजमेर, कलेक्टर कुमार पाल गौतम आदि मौजूद थे।
- 13 जुलाई को सुबह 9 बजे से आनंदपाल के घर पर करीब एक दर्जन आईपीएस और आरपीएस अफसरों की तैनाती रही। ह्यूमन राइट्स कमीशन ने स्टेट गवर्नमेंट को बुधवार को कहा था कि या तो परिजन अंत्येष्टि करें या फिर सरकार खुद अंत्येष्टि कराए। शाम को 6:00 बजे आनंदपाल के घर पर 108 एंबुलेंस भेजी गई।
- नगर पालिका के सफाई कर्मियों को बुलाकर 6:30 बजे आनंदपाल की लाश को डीप फ्रीजर के साथ ही एंबुलेंस में रखा गया। बताया जा रहा है कि आनंदपाल के घर से एक किमी दूर श्मशान पर लाश को ले जाया गया। यहां उसका शाम 7 बजे अंतिम संस्कार किया गया।
- मुखाग्नि के दौरान आनंदपाल की लाश के पास श्मशान में उसके चाचा अमरसिंह और मामा को मौजूद रखा गया। पुलिस का दावा है कि आनंदपाल के चाचा से मुखाग्नि दिलाई गई।
 
24 घंटे में करें शव का अंतिम संस्कार
 
- मानवाधिकार आयोग ने 3 जुलाई को राज्य सरकार को इस संबंध में नोटिस भेजा था। फिर बुधवार को मानवाधिकार आयोग ने राज्य सरकार को निर्देश दिए थे कि 24 घंटे में परिजन आनंदपाल के शव का अंतिम संस्कार नहीं करते हैं तो राज्य सरकार स्वयं शव का अंतिम संस्कार करवाए।
- गृह मंत्री गुलाब चंद कटारिया के अनुसार आनंदपाल के परिवार ने बिना किसी शर्त के उसके शव का अंतिम संस्कार आज ही करने की बात स्वीकार कर ली है।
 
आगे की स्लाइड्स में देखें और फोटोज...
X
लाश को पोस्ट मार्टम के लिए ले जलाश को पोस्ट मार्टम के लिए ले ज
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..