आज गृहमंत्री कटारिया का इंतजार करेगी कांग्रेस, उपाध्यक्ष अर्चना शर्मा ने स्वीकार की है चुनौती

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जयपुर। गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया की ओर से कांग्रेस को दी जा रही बहस की चुनौती को पार्टी ने स्वीकार कर लिया, लेकिन बहस का इंतजार कर रही कांग्रेस इंतजार ही करती रह गई और गृहमंत्री कटारिया नहीं पहुंचे। वे बहस से बचते रहे और बहाना बनाते रहे कि जो भी बहस के लिए आया है, वह उनके कद का नहीं है। कांग्रेस उपाध्यक्ष व मीडिया सेंटर की चेयरपर्सन डॉ. अर्चना शर्मा अन्य नेताओं के साथ पिंकसिटी प्रेस क्लब में कटारिया का इंतजार करती रही। यह है पूरा मामला...

- कटारिया ने कांग्रेस को प्रदेश की कानून व्यवस्था पर चुनौती देते हुए कई बार सार्वजनिक मंचों से कहा भी था कि इस पर वे कांग्रेस से बहस को तैयार हैं।
- इसके बाद कांग्रेस की ओर से चुनौती स्वीकार करते हुए डॉ. अर्चना शर्मा ने कटारिया से बहस के लिए समय बताने को कहा था।
- कटारिया ने भास्कर को बताया कि वे 26 और 27 दिसंबर को जयपुर में रहेंगे।
- इसी कारण कांग्रेस की ओर से अधिकृत डॉ. अर्चना शर्मा ने चुनौती को स्वीकार करते हुए मंगलवार को पिंक सिटी प्रेस क्लब में बहस करने की बात कही।
- अब कटारिया इस मामले पर पीछे हट गए।
कटारिया से की अर्चना शर्मा ने फोन पर बात
- अर्चना शर्मा ने प्रेस क्लब में पहुंचने के बाद गृहमंत्री कटारिया से बातचीत की।
- इस पर कटारिया ने फिर यही दोहराया कि बहस के लिए अनुभव की जरूरत होती है।
- अर्चना शर्मा ने जवाब में कहा कि वे कांग्रेस की ओर से अधिकृत नेता हैं इस बहस के लिए। राजनीति में अनुभव की नहीं, बल्कि तथ्यों की जरूरत होती है। यदि आपके पास अनुभव और तथ्य हैं तो बहस में शामिल हों।

- डॉ. अर्चना शर्मा का कहना है कि कटारिया बैकफुट पर आ गए हैं। जबकि वे अब तक कटारिया समेत भाजपा के कई मंत्रियों के साथ टीवी चैनल्स पर बहस कर चुकी हैं और उनकी हर चुनौती को स्वीकार करती रही हैं।
- यह सब अपनी ही चुनौती से पीछे हटने की बात है।
- राज्य की भाजपा सरकार ने कानून व्यवस्था से लेकर सभी मामलों में किसी प्रकार का ठोस काम नहीं किया है, ऐसे में कांग्रेस का हर छोटे से छोटा कार्यकर्ता भी कटारिया की चुनौती को स्वीकार कर बहस कर सकता है।
- कांग्रेस की ओर से वे अधिकृत होने के नाते ही बहस करने को तैयार हैं।
- कटारिया से बहस के लिए पिंकसिटी प्रेस क्लब में जिलाध्यक्ष प्रतापसिंह खाचरियावास, पूर्व मंत्री ब्रजकिशोर शर्मा, प्रहलाद रघु, शंकरलाल मीणा आदि पहुंचे।


खबरें और भी हैं...