• Hindi News
  • महानदी के संगम में हैंडपंप, संकट में राजिम कुंभ

महानदी के संगम में हैंडपंप, संकट में राजिम कुंभ

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रायपुर। छत्तीसगढ़ का प्रयाग कहे जाने वाले राजिम में हर साल कुंभ का आयोजन किया जाता है लेकिन इस बार नदी का संगम ही सूख गया है। यहां हैंडपंप लगाना पड़ा है। इसके बाद भी नदी के संरक्षण के लिए कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। बल्कि कुंभ के आयोजन में शासन हर साल करोड़ों रूप खर्च कर रही है।
तस्वीरों के साथ देखिए आखिर कुंभ के अस्तित्व पर कैसे मंडरा रहा संकट का बादल
राज्य सरकार के संस्कृति विभाग द्वारा यहां हर साल कुंभ का आयोजन किया जाता है। इस साल फरवरी में इसका आयोजन होना तय है। लेकिन यहां महानदी के संगम में पानी ही नहीं है। हद तो तब है जब यहां सोढू और पैरी नदी भी आपस में मिलती है।
कुंभ में पानी नहीं होने की वजह से लोग सही तरीके से नहा तक नहीं पाते हैं। यहां धमतरी स्थित जलाशय का पानी जब छोड़ा जाता है तब कहीं जाकर स्नान हो पाता है। उस पानी को रोककर रखने के लिए रेत भरकर नदी में बोरे रखने पड़ते हैं।
विशेषज्ञ सवाल उठा रहे हैं कि आखिर इस हाल में कब तक कुंभ का आयोजन हो पाएगा। हद तो तब है जब राजिम शहर का निकलने वाल सीवेज का पानी भी यहीं आकर मिलता है। इसके लिए स्थानीय प्रशासन ने कोई योजना नहीं बनाई है।
राजिम के विवेक सिंह का कहना है कि 20 साल पहले यहां संगम में भी पानी रहता था। अब तो ऐसी स्थिति है कि गर्मी में एक बूंद पानी नहीं होता।