पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • सीधी बहाली को लेकर आदिम जनजातियों ने राजभवन घेरा

सीधी बहाली को लेकर आदिम जनजातियों ने राजभवन घेरा

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रांची. झारखंड में प्रदेश में 3.733 आदिम जनजातियों को तृतीय व चतुर्थ वर्ग के पद पर सीधी बहाली की मांग को लेकर आदिम जनजातियों ने रेलवे स्टेशन से रैली का आयोजन किया और राजभवन का घेराव किया। घेराव कर रहे लोगों को संबोधित करते हुए भारतीय आदिम जनजाति परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष उमाशंकर बैगा व्यास ने कहा कि आदिम जनजाति मूलत:: प्रकृति से जुड़े हैं और वहीं 66 सालों से निवास रहा है। आज भी ये लोग कंद, मूल, फल, गेठी, कंदा अनेक प्रकार की जड़ी बूटी खा कर अपना जीवन यापन करते हैं। आजादी के इतने वर्षों बाद भी ये मुख्य धारा से जुड़ नहीं पाए हैं। विकास के नाम पर करोड़ों के वारे-न्यारे हो रहे हैं मगर इसका फायदा आदिम जनजातियों को नहीं मिल पा रहा है। इन जनजातियों को सदियों से सताया गया है। कार्यक्रम को जनाधार सिंह, सुषमा मुरमा, सुधीर कुमार मालतो, कल्याण बिरजिया, के एन पंडित, दामोदर तुरी सहित कई ने संबोधित किया।
मांगे
तृतीय व चतुर्थ पदों पर सीधी नियुक्ति हो, आवासीय विद्यालयों को अविलंब व्यवस्थित की जाए, आदिम जनजाति बोर्ड निगम का गठन हो, प्रखंड, जिला व राज्यस्तरीय कल्याण विभाग में निगरानी समिति गठित हो, लातेहार जिला नेतरहाट में आदिम जनजाति पर्व मनाने का अविलंब घोषणा हो, वनों में रहने वाले आदिम जनजातियों को मालिकाना हक मिले, विस्थापन बंद हो, सीएनटी एक्ट पर छेड़छाड़ बंद हो, पूर्व में हड़पी गई जमीन बिना शर्त वापस हो, जनजाति आयोग का गठन हो।