पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • दिल के इलाज में आई नई क्रांति, अपोलो के डॉक्टर ने किया खुलासा

दिल के इलाज में आई नई क्रांति, अपोलो के डॉक्टर ने किया खुलासा

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रांची. हृदय रोगियों के इलाज में एक नयी क्रांति आ गयी है। एंजियोप्लास्टी के दौरान अब मेटल से बने स्टेंट के बदले अब बायो ऑब्जर्वेबल स्टेंट बाजार में आ गया है। उक्त स्टेंट अपोलो अस्पताल में इलाजरत मरीज मो मकबूल(55) के दिल में कार्डियोलॉजिस्ट डॉ दीपक गुप्ता ने लगाया है। मरीज के मेन आर्टरी में ब्लॉकेज था।

फिलहाल वह ठीक है। डॉ गुप्ता ने बताया कि झारखंड बिहार में पहली बार उक्त स्टेंट का इस्तेमाल किया गया है। यह स्टेंट करीब दो माह पूर्व इंडिया में आया है। इसकी कीमत करीब 2.5 से तीन लाख रुपए तक है। इस स्टेंट की खासियत है कि यह करीब छह माह बाद स्वत:: पिघल (डिजॉल्व) जाएगा।

शरीर में कोई भी बाहरी चीज नहीं रहेगी। जहां यह लगाया गया है, वहां के ऑर्टरी में दुबारा रुकावट नहीं होगी। इस स्टेंट को न्यूनतम तापमान पर रखना पड़ता है। यह बना तो है केमिकल का, लेकिन दिखने में प्लास्टिक का लगता है। मालूम हो कि मेटल के बने स्टेंट हमेशा के लिए शरीर के अंदर मौजूद रहता है। डॉ गुप्ता के अनुसार स्टेंट महंगा है। इसलिए मरीजों को लगवाने से पहले सोचना पड़ेगा। लेकिन, जैसी ही डिमांड बढ़ेगा। दाम कम होगी।