पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • आरयू का खेल, पास को कर दिया फेल

आरयू का खेल, पास को कर दिया फेल

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रांची. रांची यूनिवर्सिटी में चौंकाने वाला मामला सामने आया है। यह पीजी उर्दू डिपार्टमेंट से संबंधित है। पीजी (2011-13) प्रथम सेमेस्टर में पास को फेल और फेल को पास कर दिया गया है। प्रभावित छात्रा द्वारा लिखित आवेदन के साथ साक्ष्य विभाग के माध्यम से आरयू मुख्यालय को उपलब्ध करा दिया गया है। विवि अधिकारियों ने इस मामले को काफी गंभीरता से लिया है। इससे प्रभावित छात्रा को न्याय की उम्मीद जगी है। इसी के साथ ही पीजी विभाग में आरयू मुख्यालय में चर्चा है कि इस तरह की गड़बड़ी कैसे और किस स्तर पर हुई है।

यह है मामला

पीजी प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा में नुजहत परवीन और निखत तबस्सुम शामिल हुई थी। नुजहत का क्रमांक 96 और निखत का क्रमांक 95 है। इस परीक्षा के इंटरनल एग्जाम में निखत शामिल भी नहीं हुई थी। इंटरनल एग्जाम 25 अंक का होता है। वही नुजहत सभी परीक्षाओं में शामिल हुई थी। फस्र्ट सेमेस्टर का रिजल्ट निकला तो इंटरनल एग्जाम में शामिल नहीं होने के बाद भी निखत का रिजल्ट पास में था। वहीं नुजहत फेल थी।

ऐसे हुआ मामले का खुलासा

नुजहत परवीन को इंटरनल एग्जाम में फेल दिखाया गया था। अब उसे एग्जाम में शामिल होने का साक्ष्य ही न्याय दिला सकता था। पीजी डिपार्टमेंट ने भी जब मामले को गहराई से पड़ताल किया तो पता चला कि इंटरनल एग्जाम में शामिल हुई थी।

कहां हुई गड़बड़ी

विभाग को छानबीन के क्रम में यह जानकारी मिली कि इंटरनल एग्जाम में जो माक्र्स नुजहत को मिले थे, उसे निखत में पोस्ट कर दिया है। इस कारण नुजहत फेल और निखत पास कर गई।

मैंने इंटरनल एग्जाम नहीं दिया था

फस्र्ट सेमेस्टर के इंटरनल एग्जाम में मैं शामिल नहीं हुई थी। इसके बाद मैं विभाग के डॉ. सरवर साजिद से मिली। तब उन्होंने कहा कि इंटरनल एग्जाम बाद में दे देना। मैं व्यक्तिगत कारण से इंटरनल परीक्षा में शामिल नहीं हुई थी। निखत तब्बसुम, पीजी फस्र्ट सेमेस्टर।

साजिश के तहत हुई गड़बड़ी


फस्र्ट सेमेस्टर के इंटरनल एग्जाम में मैं शामिल हुई थी। मैं कक्षा नियमित आती थी। मुझे उम्मीद था कि इसमें अच्छा अंक मिलेगा। निखत को तो मैं जानती भी नहीं हूं। इसका वजह यह है कक्षा में नहीं आती है।

फेल-पास से उठ रहे कई सवाल

एक परीक्षार्थी का माक्र्स दूसरे में पोस्ट कैसे हो गया।
-इंटरनल एग्जाम में शामिल नहीं होने के बाद भी परीक्षार्थी पास कैसे हो गया।

कहते हैं जिम्मेवार

पीजी प्रथम सेमेस्टर में अंक पोस्ट करने में गड़बड़ी हुई है। विभाग के परीक्षा नियंत्रक होने के नाते मैं इसकी जिम्मेवारी लेता हूं। भविष्य में ऐसी गलती नहीं होगी। पूरे मामले से आरयू प्रशासन को अवगत करा दिया है। डॉ. साजिद सरवर, परीक्षा नियंत्रक, पीजी उर्दू विभाग।