पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • कांग्रेस के नेतृत्व में बनेगी नई सरकार, प्रदीप बालमुचू होंगे सीएम ,आजसू का भी मिलेगा साथ

कांग्रेस के नेतृत्व में बनेगी नई सरकार, प्रदीप बालमुचू होंगे सीएम ,आजसू का भी मिलेगा साथ

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रांची। राज्य में नई सरकार के गठन का रास्ता लगभग- लगभग साफ होता जा रहा है। आखिरकार कांग्रेस ने झामुमो को पूरी तरह से अपने शिकंजे में कसते हुए उसे अपने मन मुताबिक चलने को राजी कर लिया है। कांग्रेस व झामुमो अंदरखाने से आ रही जानकारी के अनुसार सरकार बनाने का खाका तैयार हो चुका है। झारखंड गठन के बाद पहली बार कांग्रेसनीत सरकार प्रदेश मेंं बनने की संभावना प्रबल हो गई है। राजनीतिक सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नई सरकार में आजसू का भी साथ मिलेगा, इसके लिए उसे कांग्रेस ने तैयार कर लिया है।

इस तरह झामुमो व आजसू पर कांग्रेस डाल रही है दबाव

गुरुजी पर पहले से ही कोल आवंटन घोटाले में आहिस्ता-आहिस्ता लपेटे में आते जा रहे हैं। इतना नहीं कई ऐसे मामले हैं जिनपर कांग्रेस सीबीआई व निगरानी का इस्तेमाल भविष्य में गुरुजी व झामुमो विधायकों के खिलाफ कर सकती है। अब झामुमो के पास कांग्रेस की शर्त मानने के अलावे और विकल्प नहीं बचा है। कांग्रेस ने यही चाल आजसू के साथ चली। कांग्रेस आला नेताओं के जरिए आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो को इस बात को बता दिया गया अगर वे नई सरकार को साथ नहीं देते हैं तो वे मुसीबत में आ सकते हैं। यहां बताते चलें कि कोड़ा सरकार में भी सुदेश महतो अपने एक विधायक चंद्रप्रकाश चौधरी को शामिल करा कर अप्रत्यक्ष तौर पर सरकार को मदद की थी।

निर्दलीयों से परहेज कर रही है कांग्रेस

कांग्रेस सरकार गठन के बाद कोई आरोप उनपर लगे, इसको देखते हुए निर्दलीय खासकर एनोस एक्का, हरिनारायण राय आदि से परहेज करना चाह रही है। कांग्रेस निर्दलीयों पर यह दबाव डाल रही है कि वे लोग बिना शर्त समर्थन दें, हो सकता है सरकार गठन के बाद इन दागी विधायकों को छोड़ कर अन्य को बोर्ड-निगम मे एडजस्ट किया जाए। पूर्व में ही बंधु तिर्की, चमरा लिंडा, एनोस एक्का, विदेश सिंह आदि राजभवन जाकर नई वैकल्पिक सरकार के गठन पर बिना शर्त समर्थन की बातें कह चुके हैं।

निर्दलीयों के बगैर आंकड़ा पहुंच जाएगा 42

अगर नई सरकार को आजसू का पूर्ण रूप से समर्थन मिल गया तो निर्दलीयों के बगैर ही बहुमत का आंकड़ा 42 पहुंच जाएगा। जिसमें झामुमो 18, कांग्रेस 13, राजद 5 व आजसू के 6 विधायक शामिल होंगे। नई सरकार बनने की स्थिति में निर्दलीय बंधु तिर्की, चमरा लिंडा, एनोस एक्का, गीता कोड़ा, हरिनारायण राय आदि का बिना शर्त समर्थन देना भी तय माना जा रहा है। इससे सरकार को और स्थात्वि मिल जाएगा।

लोकसभा चुनाव में होगा झामुमो से गठबंधन

नई सरकार गठन के साथ-साथ झामुमो के साथ लोकसभा चुनाव में गठबंधन पर भी बातचीत चल रही है। मिली जानकारी के अनुसार कांग्रेस झामुमो को छह सीट व खुद आठ सीट पर लड़ेगी। इस बात पर भी झामुमो लगभग तैयार हो गया है।

एक बार फिर हेमंत सपना होगा चकनाचूर

जिस लालच में गुरुजी ने भाजपा सरकार से समर्थन वापस लिया, वह पूरा होता नहीं दिखा रहा है। झामुमो को उम्मीद थी कि भाजपा से अलग होते ही झामुमो की शर्त पर कांग्रेस हेमंत सोरेन को सीएम बनाने पर तैयार हो जाएगा। मगर कांग्रेस ने उल्टी चाल चलते हुए हेमंत के सपनों पर पानी फेर दिया।

तो बलमुचू होंगे राज्य के अगले सीएम

कांग्रेस भीतरखाने से आ रही जानकारी के अनुसार कांग्रेसनीत सरकार बनी तो प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष प्रदीप कुमार बलमुचू कांग्रेस की ओर से सीएम के कैंडीडेट होंगे। बलमुचू अभी राज्यसभा सांसद हैं, ऐसे में उन्हें छह माह के अंदर किसी विधानसभा क्षेत्र से विधायक बनना होगा। जानकारी के अनुसार हत्याकांड में जेल मेंं बंद खिजरी विधायक सावना लकड़ा बलमुचू के लिए सीट खाली करने को तैयार हो गए हैं।