पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • जल्द बदलेगी राज्य के उत्कृष्ट नेतरहाट स्कूल की सूरत

जल्द बदलेगी राज्य के उत्कृष्ट नेतरहाट स्कूल की सूरत

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रांची। राज्य के उत्कृष्ट विद्यालय के रूप में विख्यात नेतरहाट आवासीय विद्यालय नेतरहाट की सूरत जल्द ही बदली नजर आएगी। स्कूल की सूरत बदलने के लिए मानव संसाधन विकास विभाग 30.9 करोड़ रुपए विद्यालय पर खर्च करेगा। इसके तहत स्कूल की आधारभूत संरचना को फिर से नया रूप दिया जाएगा। जिसमें नए हॉस्टल, वर्ग कक्ष और लाइब्रेरी का डेवलपमेंट शामिल है।

योजना के तहत नेतरहाट स्कूल में नए तीन हॉस्टल और 8 नए वर्ग कक्ष बनाए जाएंगे। गौरतलब हो कि 15 नवंबर 1954 को स्थापित स्कूल की सभी कक्षाएं, हॉस्टल, और रेसीडेंशियल यूनिट सभी उसी समय के बने हुए है। इन सभी की मरम्मत के लिए कई बार स्कूल की ओर से एचआरडी को पत्र लिखा जा चुका है।

लाइब्रेरी में खरीदी जाएंगी विदेशी पुस्तकें


स्कूल की लाइब्रेरी को स्टूडेंट्स के लिए और बेहतर बनाया जाएगा। इसके विकास के लिए भी 10 लाख रुपए खर्च होंगे। जिसमें विदेशी पुस्तकों के अलावा, मैग्जीन और पुस्तकों की खरीद की जाएगी। वर्तमान में स्कूल की लाइब्रेरी में 50 हजार किताबें है।


60 स्टूडेंट्स से हुई थी शुरुआत आज है 500 स्टूडेंट्स


1954 में स्कूल की शुरुआत मात्र 60 स्टूडेंट्स के साथ हुई थी। आज स्कूल में कुल 500 स्टूडेंट्स पढ़ते है। स्कूल में कक्षा छह में एडमिशन के लिए हर साल करीब 10 हजार स्टूडेंट्स प्रवेश परीक्षा में शामिल होते है। वर्तमान में स्कूल में 25 क्लासरूम और 21 हॉस्टल है जिसमें स्टूडेंट्स पढ़ते और रहते है। प्रत्येक हॉस्टल की क्षमता 25 स्टूडेंट्स की है।

1954 का बना हुआ है स्कूल भवन


स्कूल भवन का पूरा स्ट्रक्चर 1954 का बना हुआ है। पूरे स्ट्रक्चर के जीर्णोद्धार के लिए कई बार सरकार को लिखा गया है। क्योंकि स्कूल की छतें, हॉस्टल, टॉयलेट सभी की स्थिति काफी दयनीय हो गई है। जिसमें मरम्मति की आवश्यकता है। - राम नरेश सिंह, प्रिंसिपल, नेतरहाट स्कूल

फंड आवंटित हो चुका है


नेतरहाट स्कूल के लिए आधारभूत संरचना के जीर्णोद्धार के लिए राशि आवंटित कर दी गई है। स्कूल की आठ योजनाओं के लिए राशि आवंटित की गई है। जिसमें रिनोवेशन वर्क, कुछ एक्सटेंशन प्लान और अन्य कार्य शामिल है। - किशोरी रजक, चीफ इंजीनियर, एचआरडी अभियंत्रण कोषांग.