पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • पूर्व कमांडर, चरपोखरी पूर्व कमांडर, चरपोखरी

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पूर्व कमांडर, चरपोखरी पूर्व कमांडर, चरपोखरी

5 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
नवादा. मणिपुर में तीन दिनों तक आध्यात्मिक तरीके से होली मनाई जाती है। ठीक इसी तरह ब्रज, गोकुल, मथुरा, बरसाने, अवध, मिथिला और मुंबइया होली मनाई जाती है। इसके बारे में भी देश और दुनिया के लोग परिचित हैं, लेकिन बिहार के मगध इलाके में भी एक होली मनाई जाती है। इसके रंग से बहुत कम लोग वाकिफ हैं। होली के अगले दिन मनाई जाती है बुढ़वा होली...

मगध में यह बुढ़वा होली के नाम से प्रचलित है। बुढ़वा होली का त्योहार होली के अगले दिन शुक्रवार को मनाई जा रही है। मगध के गया, जहानाबाद, औरंगाबाद, नवादा, शेखपुरा, नालंदा और जमुई इलाका में बुढ़वा होली का काफी प्रचलन है। धीरे धीरे यह व्यापक स्वरूप लेता जा रहा है। बुढ़वा होली के दिन सरकारी स्तर पर छुटटी नहीं रहती। इस क्षेत्र में अघोषित तौर पर छुटटी जैसी स्थिति रहती है। सरकारी और गैर सरकारी संस्थान बंद रहते हैं। सड़क, मुहल्ले और गलियों में होली की गूंज होती है। लोग होली के जश्न में डूबे होते हैं।
सुबह से शाम तक रंग खेलते हैं लोग
बुजुर्ग डॉ. एसएन शर्मा कहते हैं कि जो लोग चैत माह के पहले दिन होली के रंग से नही भीगते। वह दूसरे दिन मनाए जानेवाले होली के रंग से बेशक रंग जाते हैं। लोग इसलिए भी रंग जाते हैं क्योंकि होली के दिन लोग आधे दिन मिटटी व धूल से खेलते हैं। दोपहर बाद रंग-गुलाल लगाते हैं। समय की आपाधापी में दिनभर में लोग सभी के साथ होली नहीं खेल पाते हैं। बुढ़वा होली के दिन सबेरे से रंग की शुरुआत होती है, जो रात तक चलती है। गांव और शहर दोनों जगह बुढ़वा होली परवान पर होता है।
होलवइया की टोली गाती है होली के गीत
बुढ़वा होली के दिन होली गानेवालों (होलवइया) की टोली-जिसे झुमटा कहते हैं- अराध्य स्थलों से निकलकर कस्बे-टोले और मुहल्ले में होली गाते हुए गुजरता है। गाने की शुरुआत ढोलक, झाल, करताल, के धुनों के बीच अराध्य देव की सुमिरन (प्रार्थना) से होती हैं। फिर बुजुर्गों पर केन्द्रित गाने और फक्कर गीत के साथ बुढ़वा होली चरम पर पहुंचता है। बुजुर्ग पर केन्द्रित- भर फागुन बुढ़वा देवर लागे.... बहुत ही लोकप्रिय गीत है। यही नहीं, बुजुर्गों पर केन्द्रित कई ऐसे गीत हैं जो बसंत में मंद पड़े उत्साह को जागृत करने के लिए गाये जाते हैं।
मगधवासियों में गहरा है बुढ़वा होली का रंग
भांग का रस होलवइया के उत्साह को दोगुना कर देता है। बुढ़वा होली के कपड़े भी बुढ़ापे की अवस्था जैसी होती है। होली के दिन रंगों से सराबोर कपड़े ही लोगों के शरीर पर चढ़े होते हैं। मगधवासियों में रंग का उत्साह पहले दिन से कुछ ज्यादा ही गहरा और यादगार होता है। मगध में बुढ़वा होली के संबंध में कई लोक कथाएं हैं। इसे आदिकाल और आधुनिक काल की परिस्थितियों और वृतांतों से भी जोड़कर देखते हैं। यह धीरे धीरे व्यापक स्वरूप अख्तियार लिया है।

बुढ़वा होली से जुड़ी हैं कई कहानियां
किवदंति है कि मगध के एक राजा होली के दिन बीमार पड़ गए थे। लिहाजा, वह होली के दिन होली नहीं खेल पाए थे। उसके अगले दिन सबों के साथ होली खेले थे। तबसे यह परंपरा माना जा रहा है। कुछ लोग इसे आदिकाल का बदला स्वरूप मानते हैं। होली के गाने से इसकी प्राचीनता को जोड़ते हैं।

वरिष्ठ साहित्यकार रामरतन प्रसाद रत्नाकर कहते हैं कि बुढ़वा होली की प्रासंगिकता शिव पुराण से भी मेल खाता है। रत्नाकर के मुताबिक, आदिकाल में होली के दिन भगवान विष्णु-महालक्ष्मी होली खेल रहे थे। तब नारद मुनि ने इसकी चर्चा भगवान शिव से की थी। तब शिव ने नारद को यह कहकर टाल गए थे कि जब कोई अराध्यदेव श्रृंगार रस में लीन हों तो उसकी चर्चा दूसरों से नहीं करनी चाहिए।

भगवान शिव ने अपने प्रमुख गण वीरभद्र को बताया था कि मंगल का दिन हो और अभिजीत नक्षत्र हो, उस दिन वह होली खेलते हैं। आज भी पंचागों में ‘बुढ़वा मंगल’ का जिक्र मिलता है। बदलते समय के साथ लोग मंगल दिन का इंतजार करने के बजाय होली के दूसरे दिन होली खेलने लगे। तभी से मगध में बुढ़वा होली के रूप में प्रचारित हुआ है।
विष्णुदेव पांडे कहते हैं कि शीत ऋतु में मानव का शरीर सुसुप्ति अवस्था में होता है। बसंत पंचमी से मौसम में बदलाव का असर मनुष्यों के अंतः संबंध, वेशभूषा और खानपान पर पड़ता है। जाहिर तौर पर मौसम, प्रकृति, व्यंजन यह सब एक दूसरे से जुड़े होते हैं। इस उत्साह की चरम उत्कर्ष होली के बाद भी कई दिनों तक होती है। बुढ़वा होली सिर्फ बुजुर्ग ही नहीं मनाते। यह हर उम्र के लोगों को मदमस्त बनाता है। लिहाजा, मगध में लोक संस्कृति का अहम हिस्सा बन गया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

और पढ़ें