तो कर / तो कर

तो कर

Oct 09, 2017, 10:08 AM IST
पटना. सोमवार को पटना में बिहार कांग्रेस की मीटिंग के पहले नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाए गए। इस दौरान पार्टी के दो गुट आपस में भिड़ गए। धक्कामुक्की के दौरान कुछ कार्यकर्ताओं के कपड़े भी फट गए। एक गुट प्रदेश के वर्तमान अध्यक्ष कौकब कादरी का है जबकि दूसरा पूर्व अध्यक्ष अशोक चौधरी का। चौधरी समर्थकों का आरोप है कि उन्हें मीटिंग में नहीं बुलाया गया। अशोक ने कहा कि वो इसकी शिकायत राहुल गांधी से करेंगे। गेट पर हुई धक्कामुक्की...
- सोमवार को पार्टी की अहम मीटिंग में नहीं बुलाए जाने से अशोक चौधरी बेहद गुस्से में थे। वह अपने समर्थकों के साथ सदाकत आश्रम पहुंचे। मीटिंग इसी जगह होनी थी। लेकिन उन्हें अंदर जाने से रोक दिया गया।
- पार्टी ऑफिस के गेट पर ही दोनों पक्ष के बीच धक्कामुक्की हुई। जब चौधरी और उनके समर्थकों को मीटिंग में नहीं जाने दिया गया तो कुछ लोग नरेंद्र मोदी जिंदाबाद के नारे लगाने लगे। इसके बाद विवाद और बढ़ गया। कुछ देर बाद पुलिस मौके पर पहुंची और वहां के हालात संभाले।
- बता दें कि सोमवार को हुई मीटिंग में बिहार कांग्रेस के सभी नेताओं को बुलाया गया था। खास बात ये है कि अशोक चौधरी और उनके करीबी नेताओं को सम्मेलन में शामिल होने का न्योता नहीं दिया गया था।
क्यों हटाए गए थे चौधरी
- कुछ महीने पहले बिहार में जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस की सरकार थी। बाद में नीतीश ने महागठबंधन छोड़कर बीजेपी के साथ सरकार बना ली। इसके बाद कांग्रेस में फूट पड़ने लगी। अशोक चौधरी का उनकी ही पार्टी के कुछ विधायकों ने विरोध करना शुरू कर दिया।
गुटबाजी के चलते अशोक चौधरी से छीना गया था पद
- बिहार कांग्रेस में दो गुट नई बात नहीं है। महागठबंधन में सत्ता में रहने के दौरान भी पार्टी का एक गुट अशोक चौधरी के बिहार कांग्रेस अध्यक्ष होने का विरोध कर रहा था।
- कांग्रेस सत्ता में थी और अशोक चौधरी शिक्षा मंत्री होते हुए सीएम नीतीश के करीबी थे। इसकी वजह से दूसरा गुट ज्यादा आवाज नहीं उठा पाता था।
- नीतीश ने जब महागठबंधन से अलग होकर बीजेपी के साथ सरकार बनाई तो यह कहा जाने लगा कि अशोक चौधरी अपने समर्थक विधायकों के साथ कांग्रेस को तोड़ देंगे और जदयू में चले जाएंगे।
- राहुल गांधी ने बिहार के विधायकों को दिल्ली बुलाया था और बैठक की थी। इस बैठक में अशोक चौधरी को नहीं बुलाया गया था।
- बैठक के बाद अशोक चौधरी को बिहार कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया गया। पद से हटाए जाने के बाद अशोक चौधरी ने विरोध व्यक्त किया था।
- चौधरी ने कहा था कि राहुल गांधी दलित के घर खाना खाकर पार्टी के दलितों के साथ होने का मैसेज देना चाहते हैं, लेकिन मुझ दलित के साथ जैसा व्यवहार किया जा रहा है इससे लोगों के बीच क्या संदेश जाएगा।
फोटो- शेखर
X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना