--Advertisement--

Dainik Bhaskar

Jan 12, 2017, 06:09 PM IST
new App 'Fisdom', through which investments can be possible
नई दिल्ली। आम लोग अपना पैसे को कैसे बेस्ट तरीके से इनवेस्ट कर सकते है इसको लेकर तीन दोस्तों ने फिसदोम एप लॉन्च किया है। इसके जरिए आम आदमी अपने पैसे को निवेश के साथ साथ ट्रेक भी कर सकता है। क्या खास है इस एप में इस बारे में एप के को-फाउंडर सुब्रह्मण्यम एसवी और आनंद डालमिया से बात की हमारे संवाददाता मनोज शर्मा ने।
सवाल - आजकल काफी सारे एप पॉपुलर हुई हैं। फिसदोम में इतना ख़ास बात क्या है ?
आनंद डालमिया – फिसदोम एक कंज्यूमर बेस्ड एप है। आम आदमी भी हमारा एप यूज कर सकता है इसमें ज्यादा कॉम्पलिकेशन नहीं है। साथ ही इसके जरिए हर शख्स कभी भी अपनी इनवेस्टमेंट को ट्रैक कर सकता है।
सवाल – नोटबंदी के बाद हालात काफी बदल गए हैं, इस पर आपका क्या कहना है?
सुब्रह्मण्यम एसवी - नोटबंदी के बाद देश का इकॉनोमिक मॉडल बदला है। हमारा एप लोगों को निवेश के बेस्ट ऑप्शन दिखाता है ताकि बेस्ट फंड में पैसा लगाया जा सके। साथ ही यह भी बताता है कि जिस प्रोडेक्ट में आप अपना पैसा लगा रहें है उसके पिछले तीन साल का परफॉर्मेंस कैसा रहा।
सवाल - बैंक ऑफ़ बड़ौदा के साथ आपकी कैसी पार्टनरशिप हैं ? इसकी बारे में कुछ बताइए?
आनंद डालमिया – हमारी बैंक ऑफ बड़ौदा और लक्ष्मी विलास बैंक के साथ पार्टनरशिप है। इन बैंकों के जरिए हमें करीब 70 मिलियन कस्टमर मिल जाएंगे। इन दोनों बैंकों ने बडी जांच पड़ताल के बाद हमें पार्टनर बनाया था।
सवाल - आप अपने और बाकी फाउंडर्स की बारे में कुछ बताइये
आनंद डालमिया – हम तीन लोग है जिन्होंने यह वैंचर शुरू किया है। सुब्रह्मण्यम और मैं दोनों काफी पुराने दोस्त हैं। सुब्रह्मण्य जहां स्नैपडील और टैक्सी फोर श्योर के बार्ड में रहे हैं वहीं मैं इनवेस्टमेंट बैंकर रहा हूं। इसके अलावा रामगणेश है जो आईआईएम अहमदाबाद से पासआउट हैं।
सवाल – आपके कितने एक्टिव कस्टमर हैं?
सुब्रह्मण्यम एसवी – हमने इस एप को फरवरी 2015 में इस लॉन्च किया था। इस वक्त करीब 55 हजार लोगों ने इसे डाउन लोड कर लिया है।
सवाल – बजट से आपको क्या आशा हैं?
सुब्रह्मण्यम एसवी – हम भी चाहते है कि टैक्स लिमिट बढ़ाई जानी चाहिए। क्योंकि टैक्स बचा कर लोग इनवेस्ट करते है। अगर लोगों के पास ज्यादा पैसा होगा तो लोग ज्यादा इनवेस्ट करेंगे।
सवाल – फिसदोम में कितना मैन्युअल काम होता हैं? जो टेक्नोलॉजी आप यूज़ करते हैं उसकी बारे में बताइये
आनंद डालमिया – हमारा ज्यादातर काम टेक्नोलॉजी बेस्ड है। हमारे पास करीब 35 लोगों की टीम है। करीब 5 फीसदी ही काम मैन्युअल होता है। केवाईसी और दूसरे डाक्यूमेंट्स काम है वो ही मैन्युअल होता है।
फोटो - भूपिंदर सिंह।
X
new App 'Fisdom', through which investments can be possible
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..