• Hindi News
  • न होगा मूल्यांकन और न होने देंगे परीक्षा

न होगा मूल्यांकन और न होने देंगे परीक्षा

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

भोपाल। यदि हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो स्कूलों में न मूल्यांकन होगा और न कोई परीक्षा होने दी जाएगी। ताला जडऩे से ज्यादा तो यह कार्य महत्वपूर्ण हैं, जिन्हें रोक दिया जाएगा। यदि सरकार ने हमें समान कार्य और समान वेतन के साथ स्कूल शिक्षा विभाग में संविलियन नहीं किया तो हम यह सब करके दिखा देंगे।

बात करने की दी नसीहत :


यह घोषणा अध्यापक-संविदा शिक्षक संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष मुरलीधर पाटीदार ने रविवार को की। वे यहां यादगार-ए-शाहजहांनी पार्क में आयोजित अध्यापक-संविदा शिक्षकों के महाकुंभ को संबोधित कर रहे थे। हालांकि इस दौरान अतिथि शिक्षकों की समस्याओं और मांगों पर चर्चा नहीं करने के कारण उनमें कुछ असंतोष देखा गया। इसके नतीजे में अतिथि शिक्षकों ने मंच के पास पहुंचकर उनकी मांगों पर भी बात करने की नसीहत वक्ताओं को दी।

हम संतुष्ट नहीं:
मोर्चा के पदाधिकारी द्वय उपेंद्र कौशल व जितेंद्र शाक्य ने कहा कि हम मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की उस घोषणा से संतुष्ट नहीं हैं, जिसमें उन्होंने 2300 से 3 हजार 500 रुपए तक अध्यापकों के विभिन्न संवर्ग की तनख्वाह बढ़ाने की बात कही है। गुना से आई महिला इकाई की अध्यक्ष ममता दुबे और भोपाल की दीप्ति शर्मा ने कहा कि हम समान कार्य व वेतन की मांग पूरी हुए बगैर अपना आंदोलन खत्म नहीं करेंगे।

लगता रहा जाम:


इस दौरान यादगार-ए-शाहजहांनी पार्क के सामने अध्यापकों के आवागमन के कारण कई बार जाम लगता भी देखा गया। हालांकि रविवार होने के कारण वाहन कम चल रहे थे पर सामने ही स्थित सुलतानिया व इंदिरा गांधी अस्पतालों में आने-जाने वालों खासी समस्या का सामना करना पड़ा।

शाम को लौटेंगे अध्यापक:


इस महाकुंभ में शामिल होने विभिन्न जिलों से आए अध्यापक, संविदा शिक्षक, अतिथि शिक्षक देर शाम वापस लौट जाएंगे। इनके नेतागण शाम को आगे की रणनीति का खुलासा करेंगे।