• Hindi News
  • प्रेमिका ने लगाई फांसी तो प्रेमी ने खा लिया जहर

प्रेमिका ने लगाई फांसी तो प्रेमी ने खा लिया जहर

8 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल। दोनों एक दूसरे से बहुत प्यार करते थे, इतना कि दोनों ने कभी समाज और लोगों की परवाह नहीं की। प्रेमी शादीशुदा था ये बात जानते हुए भी प्रेमिका का प्यार उसके प्रति कम नहीं हुआ। प्यार का ये भावनात्मक रिश्ता बहुत गहरा और लोगों की समझ से परे था। प्रेमी कभी नहीं चाहता था कि लोगों की नजर में उसके प्यार को किसी और नाम से पुकारा जाए।
उसने प्रेमिका को समझाया और अपने भविष्य के बारे में सोचने को कहा। प्रेमी की इन बातों से आहत प्रेमिका ने खुद को खत्म करने की ठान ली और फांसी पर झूल गई। इधर प्रेमी को जैसे ही इसकी खबर लगी वह भागता हुआ अस्पताल पहुंचा, अस्पताल में बेसुध पड़ी प्रेमिका को देखकर घर लौटे प्रेमी ने भी जहर खा लिया। इसी तरह पिछले दिनों सामने आए इसी तरह के एक हादसे में प्रेमी और प्रेमिका ने समाज के तानों से परेशान होकर जान दे दी।
प्रेमी युगल की मौत की घटना को विस्तार से पढि़ए अगली स्लाइड पर ....
प्रेमी शादीशुदा था: घटना भोपाल के ईंटखेड़ी इलाके की है, जहां एक प्रेमिका ने फांसी लगाकर अपनी जान दे दी। 17 वर्षीय बबली पिता नंदूलाल एक कारखाने में काम करती थी। इसी दौरान उसकी पहचान वहां काम करने वाले अरवलिया निवासी सुरेंद्र मालवीय से हुई। वह शादीशुदा था। दोनों की नजदीकियां बढ़ीं तो उनमें मोबाइल फोन पर बातचीत शुरू हो गई। 26 अगस्त को बबली ने अपने घर में फांसी लगा ली।
इस रिश्ते का कोई अंजाम न था: दरअसल बबली जिसे लड़के से प्यार करती थी, वह पहले से शादीशुदा था। ये जानने के बाद भी बबली उसके प्यार में काफी आगे निकल चुकी थी, लेकिन दोनों के इस रिश्ते का कोई सुखद अंजाम न देखते हुए रजनी ने फांसी लगा ली। प्रेमिका के फांसी लगाने की जानकारी मिलने पर प्रेमी उससे मिलने अस्पताल गया, लेकिन वहां बेसुध पड़ी प्रेमिका की हालत देखकर परेशान प्रेमी ने घर पहुंचते ही जहर खा लिया।
फोन पर होती थी बातें: प्रेमी की उसी रात मौत हो गई, लेकिन किशोरी ने नौ दिन तक बेसुध हालत में मौत से जंग लड़ी और आखिर उसने भी दम तोड़ दिया। गुनगा पुलिस को जांच के दौरान पता चला कि दोनों के बीच फोन पर अक्सर बात होती थी। परिजन उसे लेकर निजी अस्पताल पहुंचे, जहां उसका इलाज शुरू हुआ। उसके फांसी लगाने की खबर सुनकर सुरेंद्र भी अस्पताल पहुंचा। बबली की हालत देखकर सुरेंद्र ने जहर खा लिया। उसे भी अस्पताल पहुंचाया गया, जहां उसने दम तोड़ दिया।
इसी तरह एक अन्य घटना में प्रेमी-प्रेमिका ने समाज के तानों से परेशान होकर आत्महत्या कर ली।