पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Horrible Memories Of Dabwali Fire Accident

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोई कैसे भूले वह भयावह मंजर, जब फंक्शन में लगी जिंदा जल गए थे ४४२ मासूम

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
डबवाली (सिरसा)। आज 23 दिसंबर है, डबवाली के एक भयावह दुर्घटना की बरसी। पिछले 2 दशक से दर्द की जो आग लोगों के दिलों में रह-रहकर दहकती रहती है, यह दिन आते ही आंखों से बहते आंसुओं में बदल जाती है। हो भी क्यों न उस भयानक मंजर को कोई कैसे भुला सकता है, खासकर वो जिनके 442 मासूम सिर्फ 5 मिनट के भीतर जिंदा जल गए थे। अंतिम संस्कार के लिए श्मशान भी छोटा पड़ गया था...
- बात 23 दिसंबर 1995 की है, जब यहां के राजीव पैलेस में डबवाली के डीएवी स्कूल में एनुअल फंक्शन चल रहा था। तभी अचानक आग लगी और खुशी का माहौल मातम में बदल गया।
- चीख-पुकार के बीच 442 लोग झुलस कर मर गए। इनमें 136 महिलाएं, 258 बच्चे शामिल थे। यह अब तक का देश का सबसे बड़ा अग्निकांड माना जाता है, जिसमें इतनी बड़ी संख्या में लोग मारे गए।
कैसे फैलती गई थी आग
- एनुअल फंक्शन के दौरान पंडाल के गेट पर शॉट-सर्किट हुआ और मिनटों में आग ने पूरे पंडाल को अपनी चपेट में ले लिया।
- पंडाल के पास ही खाना बनाने के लिए गैस सिलेंडर रखा था, जो आग से जल उठा।
- बिजली के तार ने भी आग पकड़ ली। पास रखे जनरेटर में भी डीजल होने के कारण आग और भड़क गई।
- पंडाल के ऊपर तिरपाल की छत बिछाई गई थी। तिरपाल की पॉलिथीन में आग लग जाने से वह पिघलती हुई लोगों पर गिरी और देखते ही देखते लाशों का ढेर बिछ गया।
खेत में हुए थे अंतिम संस्कार
- हादसे के बाद स्कूल में लाशों का अंबार लग गया था। उस वक्त हालात यह थे कि लोगों के शवों को दफनाने और जलाने के लिए श्मशान स्थलों पर जगह कम पड़ गई थी, जिसके चलते लोगों का खेत-खलिहान में भी अंतिम संस्कार किया गया था।
आगे की स्लाइड्स में 7 नंबर में पढ़ें, 21 साल पहले सिर्फ शरीर झुलसा था, हौसला नहीं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप में काम करने की इच्छा शक्ति कम होगी, परंतु फिर भी जरूरी कामकाज आप समय पर पूरे कर लेंगे। किसी मांगलिक कार्य संबंधी व्यवस्था में आप व्यस्त रह सकते हैं। आपकी छवि में निखार आएगा। आप अपने अच...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser