गाड़ियां जिंदाबाद... जिंदाबाद.. आपका वोट कहां पड़ेगा... का कानफाडू़ शोर

News - गाड़ियां जिंदाबाद... जिंदाबाद.. आपका वोट कहां पड़ेगा... का कानफाडू़ शोर मचा रहीं थीं और लोग बेपरवाह थे। रोजमर्रा का...

Dec 04, 2019, 09:51 AM IST
Ranchi News - cars zindabad zindabad where will your vote
गाड़ियां जिंदाबाद... जिंदाबाद.. आपका वोट कहां पड़ेगा... का कानफाडू़ शोर मचा रहीं थीं और लोग बेपरवाह थे। रोजमर्रा का सामान खरीदने में जुटे थे। बिरसा उलगुलान के केंद्र डोम्बारीबुरु के रास्ते में मरंगहातू है। यहां लोकसभा चुनाव में सिर्फ 18 वोट पड़े थे, लेकिन इस बार लोग बटन दबाने को तैयार हैं। सापरूम में भाजपा की बड़ी एलईडी स्क्रीन वाले वाहन पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के भाषण की रील चल रही थी। दो-तीन लोग इसे देख रहे थे। स्कूल ड्रेस पहने छह साल की साक्षी मुंडा से हमने पूछा-किसका भाषण चल रहा है? साक्षी ने झट से बोला- नरेन्दर मोदी के...।

खूंटी विधानसभा क्षेत्र में भाजपा का संगठन है तो नीलू फैन्स क्लब भी है। मंत्री नीलकंठ सिंह मुंडा से जुड़ा संगठन। तीन चुनाव जीत चुके मुंडा चौथी जीत के लिए संघर्षरत हैं। मुकाबला, झामुमो के सुशील पाहन से है। दोनों सरना हैं। इलाके में मिशनरी का प्रभाव भी है। मुकाबले को अपनी ओर मोड़ने में झाविमो की दयामनी बारला भी प्रयासरत हैं। आदिवासी सवालों को लेकर संघर्ष का उनका लंबा इतिहास है। छह महीने पहले हुए लोकसभा चुनाव में भाजपा इस क्षेत्र में 21 हजार से अधिक मतों के अंतर से पिछड़ गई थी। लोकसभा चुनाव वाली हवा जिसे बहाने और रोकने की कोशिशें हो रहीं हैं, सत्तापक्ष या विपक्ष में से जो कामयाब होगा रुख अपनी ओर मोड़ लेगा। लड़ाई तिकोनी तनी तो भाजपा की राह आसान होगी। सीधी हुई तो परिणाम पलट सकता है। इस सीट पर 11 प्रत्याशी मैदान में हैं। सबके अपने-अपने वोट के पॉकेट हैं। मतदान के दिन तक यह प्रभाव कायम रहा तो वोट मजे के बंटेंगे और तब नतीजा इसी बिखराव के बीच से निकलेगा।

आम्रेश्वर धाम खूंटी और तोरपा विधानसभा क्षेत्र का सिमाना है। तोरपा की राजनीति भी खूंटी से थोड़ी अलग है। क्षेत्र में चर्च का खास प्रभाव है लेकिन इसमें भी धड़े हैं। जीएल, आरसी मिशन, सीएनआई और विस्वासी। प्रत्याशी भी इनसे जुड़े हैं। जीएल और आरसी मिशन में सीटिंग विधायक पौलुस सुरीन की ठीकठाक पैठ बताई जा रही है तो सीएनआई में सुदीप गुड़िया की। पौलुस बेटिकट हुए तो निर्दलीय मैदान में हैं। भाजपा ने अपने आजमाए चेहरे कोचे मुंडा को ही टिकट दिया है। बीते दो विधानसभा चुनावों में पौलुस ने कोचे को ही हराया था। 2014 के चुनाव में कोचे मात्र 43 वोट से पराजित हुए थे। खूंटी की जिला परिषद अध्यक्ष जुनिका गुड़िया भी टिकट की आस में डेढ़ महीना पहले भाजपा में शामिल हुईं। टिकट नहीं मिला तो पार्टी के प्रचार में जुट गई हैं। झामुमो ने यहां सुदीप गुड़िया पर दांव खेला है। सुदीप तपकरा पंचायत के मुखिया हैं। उन्हें भरोसा है कि टिकट दिलाने में 37 पंचायतों के मुखिया मददगार बने तो वोट दिलाने में भी मदद करेंगे। मैदान में जेवीएम के ईश्वर मार्शल मुंडू, झापा के सुभाष कोंगाड़ी समेत आठ प्रत्याशी हैं। बीते लोकसभा चुनाव में यहां भाजपा 22 हजार मतों से पीछे थी। पिछड़ने के बावजूद विधानसभा चुनाव में यहां पार्टी के आधार मतों में बिखराव ना के बराबर है। लिहाजा यहां एक मोर्चे पर कोचे खड़े हैं तो दूसरे पर निर्दलीय पौलुस से लेकर झामुमो, झापा, झाविमो समेत अन्य। फिलहाल यहां भाजपा को पछाड़ने से ज्यादा एक-दूसरे से आगे निकलने में पार्टियों की ऊर्जा जाया हो रही है। खूंटी जिले का अड़की प्रखंड तमाड़ विधानसभा क्षेत्र का हिस्सा है। कभी नक्सलवाद इलाके की पहचान थी, आज यहां पार्टियों की प्रचार की गाड़ियां बेखौफ घूम रहीं हैं। गांवों में पार्टियों के रंग-बिरंगे झंडे टंगे हैं। इसी अड़की में कुंदन पाहन का गांव बारीगड़ा है। गांव में 80 घर हैं। सरेंडर करने के बाद कुंदन जेल मे है, चुनाव लड़ रहा है। दो भाई डिम्बा और राम पाहन भी जेल में हैं। हरि, एतवा व जंगल पाहन कुंदन का प्रचार देख रहे हैं। और बारीगड़ा में इकलौता झंडा बैनर कुंदन का ही लगा है। गांव वाले कहते हैं, कुंदन जीतेगा तो गांव की सड़क बनेगी। कांची कैनाल, सलगाडीह में रांची-टाटा मार्ग को पार करती है। इलाके में धान की अच्छी फसल होती है। आगे रायडीह मोड़ है। यहां मोटरसाइकिल जुलूस में शामिल सुब्रतो दास बताते हैं, हमें 200 रुपए और दो लीटर पेट्रोल मिलता है। हम किसी के वर्कर नहीं हैं। जो पैसा देता है उसका प्रचार करते हैं। तमाड़ से आजसू के विधायक विकास मुंडा इस चुनाव में झामुमो प्रत्याशी हैं। पिता रमेश सिंह मुंडा की हत्या के बाद राजनीति में आए थे। रमेश सिंह मुडा की हत्या का आरोप गोपाल कृष्ण पातर उर्फ राजा पीटर पर लगा। पीटर, जेल में हैं। राकांपा के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं। प्रचार की कमान प|ी के पास है। रीता देवी भाजपा की प्रत्याशी हैं। तमाड़ राजा महेन्द्र नाथ शाहदेव पूरी ताकत से प्रचार-प्रसार में जुटे हैं। भाजपा से टिकट के दावेदार लक्ष्मण पातर भी थे। आजसू ने रामदुर्लभ सिंह मुंडा को उतारा है। आजसू हर हाल में अपनी सीटिंग सीट हासिल करना चाहती है। आजसू-झामुमो की लड़ाई का यहां तीसरा और चौथा कोण राकांपा व भाजपा है। क्षेत्र में पार्टी प्रमुख सुदेश महतो का खास प्रभाव है। कुड़मी वोट मुट्‌ठीबंद हुए तो दूसरे दलों को मुश्किल होगी।

X
Ranchi News - cars zindabad zindabad where will your vote
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना