चैत्र नवरात्र: देवी के दूसरे स्वरूप ब्रह्मचारिणी की पूजा

Sasaram News - नवरात्र के दूसरे दिन गुरुवार को मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की गई। कोरोना को लेकर लागू किए गए लॉकडाउन के...

Mar 27, 2020, 08:21 AM IST

नवरात्र के दूसरे दिन गुरुवार को मां ब्रह्मचारिणी की पूजा-अर्चना की गई। कोरोना को लेकर लागू किए गए लॉकडाउन के कारण लोगाें ने अपने घरों में ही जगत-जननी की आराधना की। कई घरों में हो रहे दुर्गा सप्तशती के पाठ से माहौल भक्तिमय बना रहा। ज्योतिषाचार्य पंडित इन्दु प्रकाश मिश्र ने बताया कि ब्रह्म का अर्थ है तपस्या व चारिणी का अर्थ है आचरण करने वाली देवी। मां के हाथों में अक्ष माला और कमंडल होता है। मां ब्रह्मचारिणी के पूजन से ज्ञान सदाचार लगन, एकाग्रता और संयम रखने की शक्ति प्राप्त होती है और व्यक्ति अपने कर्तव्य पथ से भटकता नहीं है। मां ब्रह्मचारिणी की भक्ति से लंबी आयु का वरदान प्राप्त होता है। कहा जाता है कि मां पूजा करने वाले भक्त जीवन में सदा शांत चित्त और प्रसन्न रहते हैं। उन्हें किसी प्रकार का भय नहीं सताता है। उन्होंने बताया कि मंत्र के द्वारा देवी का आह्वान किया जाता है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना