वन विभाग नहीं खरीद रहा इमली-महुआ, दस किमी से निराश होकर वापस लौट रहे ग्रामीण

Bastar Jagdalpur News - नकुलनार। वनोपज बेचने पैदल चलकर बाजार जातीं महिलाएं। नकुलनार| कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर किए गए 21 दिन के...

Mar 27, 2020, 06:30 AM IST
Bacheli News - chhattisgarh news forest department is not buying tamarind mahua villagers returning from ten km disappointed

नकुलनार। वनोपज बेचने पैदल चलकर बाजार जातीं महिलाएं।

नकुलनार| कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर किए गए 21 दिन के लॉकडाउन से ग्रामीणों काे परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। हाट बाजार बंद होने से जहां ग्रामीण वनोपज नहीं बेच पा रहे हैं तो वहीं दूसरी ओर वन विभाग ने ग्रामीणों से इमली सहित अन्य वनोपज की खरीदी बंद कर दी है। इसके चलते ग्रामीणों को इन दिनों पैसे की किल्लत हो गई है।

ग्रामीणों ने कहा कि महुआ को तो वे कुछ दिन रख लेंगे लेकिन इमली को रख पाना संभव नहीं है। जगदलपुर की मंडी में इमली और महुआ के नहीं जाने से आने वाले दिनों में यह परेशानी और अधिक बढ़ जाएगी। इधर दूसरी ओर वन विभाग ने ग्रामीणों से 17 रुपए प्रतिकिलो की दर पर महुआ और 21 रुपए के रेट पर इमली खरीदने की बात कही है, जो अब तक शुरू नहीं हो सकी है।

सरकारी खरीदी की जानकारी नहीं होने से हर दिन बड़ी संख्या में ग्रामीण इसे बेचने के लिए कटेकल्याण से लेकर कुआकोंडा और अन्य जगहों तक पहुंच रहे हैं और निराश होकर वापस लौट रहे हैं। गुरुवार को मोखपाल में लगने वाला साप्ताहिक बाजार बंद था। तेलम, टेटम, एटेपाल, जियाकोडता जैसे गांव की महिलाएं 10 से 12 किलोमीटर पैदल चलकर मोखपाल बाजार पहुंची थी, जो उपज को बेच नहीं सकीं और निराश होकर वापस लौट गईं। मोखपाल से लौट रही जोगी, बामी, पायके, ललिता ने बताया कि बाजार बंद है। इमली और महुआ बेचकर नमक-मिर्ची खरीदने आए थे। खाली हाथ लौट रहे हैं।

X
Bacheli News - chhattisgarh news forest department is not buying tamarind mahua villagers returning from ten km disappointed

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना