फट गई थी दिल की दीवार, अंबेडकर में बिना सर्जरी विशेष बटन से किया बंद

News - रायपुर | अंबेडकर अस्पताल में शनिवार को एक 40 वर्षीय व्यक्ति के दिल की फटी हुई दीवार बिना ऑपरेशन के विशेष बटन से बंद...

Oct 13, 2019, 07:26 AM IST
रायपुर | अंबेडकर अस्पताल में शनिवार को एक 40 वर्षीय व्यक्ति के दिल की फटी हुई दीवार बिना ऑपरेशन के विशेष बटन से बंद किया गया। दिल के दौरे के बाद दीवार फट गई थी। डॉक्टरों का दावा है कि प्रदेश में इस तरह का पहला केस हुआ है। विशेष बटन लगाने में अंबेडकर के अलावा एम्स, पीजीआई चंडीगढ़ के कार्डियोलॉजिस्ट का योगदान रहा। मरीज को सितंबर में हार्ट अटैक आया था और दिल की दीवार में 10 मिमी का सुराख हो गया था। हार्ट अटैक के बाद दिल की वेंट्रिकुलर सेप्टल दीवार का फटना (वीएसआर) गंभीर है। ऐसे केस में 89 फीसदी मरीजों की मौत हो जाती है। थक्का घुला देना वाले इंजेक्शन के अभाव में दिल के दौरे के एक से तीन फीसदी लोगों में दिल की वीएसआर होता है। दिल की नस पूरी तरह ब्लॉक हो जाता है। अधिक उम्र की महिलाओं में व हाई बीपी केस में जिन मरीजों को खून के थक्का घोलने का इंजेक्शन नहीं लगा हो उनमें ज्यादा पाया जाता है।



ओपन हार्ट सर्जरी ऐसे मरीजों के लिए कुछ कारगर हो सकती है, लेकिन केस क्रिटिकल होते हैं। सर्जरी भी क्रिटिकल हो जाती है। ऐसी परिस्थितियों में बिना चीर फाड़ के एंजियोग्राफी विधि से दिल की दीवार के सुराख को बटन से बंद किया जा सकता है। इससे मरीज की जान भी बच जाती है। प्रोसीजर के दौरान नई दिल्ली एम्स के प्रोफेसर रामा कृष्णा भी मौजूद थे। उनके अलावा पीजीआई चंडीगढ़ के डॉ. मनोज कुमार रोहित व एसीआई के डॉ. स्मित श्रीवास्तव ने इलाज किया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना