रैगिंग की शिकायत पर जांच शुरू, बयान में मुकरे जूनियर

News - अामतौर पर कालेजों में रैगिंग की शिकायतें सेशन के शुरू में अाती हैं, लेकिन डीडीनगर के ट्राइबल ब्वायज हास्टल में...

Jan 16, 2020, 07:45 AM IST
अामतौर पर कालेजों में रैगिंग की शिकायतें सेशन के शुरू में अाती हैं, लेकिन डीडीनगर के ट्राइबल ब्वायज हास्टल में बीएससी सेकंड इयर के छात्रों पर जूनियरों से रैगिंग का अारोप सत्र के छह माह बीतने के बाद लगा है। रैगिंग की शिकायत से चौंके प्रशासन ने बुधवार को ही अफसरों की टीम हास्टल भिजवा दी। इस टीम ने 27 जूनियर छात्रों के बयान लिए हैं। अफसरों ने बताया कि अधिकांश ने रैगिंग या मारपीट जैसी घटना से ही इंकार कर दिया है। हालांकि प्रशासन इस मामले में गुरुवार को कुछ और छात्रों से बयान लेने वाला है।

इस साल रैगिंग की यह पहली शिकायत थी। बुधवार को सुबह शिकायत सोशल मीडिया से बाहर अाई और प्रशासन तुरंत हरकत में अा गया। कलेक्टर ने रायपुर की अपर कलेक्टर पदमिनी भोई तथा टीम को छात्रों की शिकायत की जांच के लिए ट्राइबल हॉस्टल भेजा और जांच शुरू हो गई। टीम ने छात्रों से बयान लिए हैं। इस अाधार पर अपर कलेक्टर ने भास्कर से कहा कि अधिकांश ने रैगिंग की घटना को नकार दिया है। इसलिए जांच का दायरा बढ़ाया गया है। कुछ और छात्रों से बयान लेने के बाद गुरुवार की रात इस मामले की रिपोर्ट बनाई जाएगी। गौरतलब है, रैगिंग की शिकायत सामने अाने के बाद सोशल मीडिया में दिनभर इस तरह के पोस्ट अाए कि ट्राइबल हास्टल के जूनियर डरे हुए हैं।



कोई भी जूनियर फोन रिसीव नहीं कर रहा है।

हास्टल से निकल भी नहीं रहे हैं। हालांकि मौके पर पहुंचे पुलिस अफसरों ने कहा कि ऐसी कोई शिकायत छात्रों ने नहीं की है। गौरतलब है कि डीडी नगर स्थित पोस्ट मैट्रिक ट्राइबल ब्याएज हॉस्टल में करीब 120 स्टूडेंट्स रहते हैं। वे अलग-अलग संस्थानों में पढ़ाई कर रहे हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना