अगले हफ्ते तक आएगी एक्सप्रेस-वे की जांच रिपोर्ट

News - इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर | रायपुर स्टेशन से शदाणी दरबार के बीच एक्सप्रेस-वे के जर्जर हिस्से की जांच रिपोर्ट...

Nov 10, 2019, 07:46 AM IST
इंफ्रास्ट्रक्चर रिपोर्टर | रायपुर

स्टेशन से शदाणी दरबार के बीच एक्सप्रेस-वे के जर्जर हिस्से की जांच रिपोर्ट जल्द आएगी। मुख्य तकनीकी परीक्षक (सीटीअाई) की टीम रिपोर्ट तैयार करने में जुट गया है और अगले हफ्ते में संभवत: शासन को रिपोर्ट सौंप दी जाएगी। मिली जानकारी के मुताबिक राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान एनआईटी की रिपोर्ट का इंतजार सीआईटी कर रही है। दोनों ही जांच रिपोर्ट तैयार होने के बाद इसपर आगे की कार्यवाही होगी।

एक्सप्रेस-वे की खराब व धसकी हुई सड़क को फिर से बनाने के लिए नई कंसल्टेंट कंपनी की नियुक्ति कर दी गई है। यह सलाहकार कंपनी सड़क को बेहतर ढंग से बनाने के लिए दिशा-निर्देश तय करेगी। कपंनी ने एक्सप्रेस-वे का सर्वे कर लिया है। छत्तीसगढ़ सड़क विकास निगम सीआरडीसी ने मुंबई की एक बड़ी सलाहकार कंपनी को हायर किया है, ताकि जांच रिपोर्ट आने के बाद एक्सप्रेस-वे को अच्छे से बनाया जा सके। तीन महीने में सड़क को ठीक करके इसपर ट्रैफिक शुरू करने का प्लान है।

बता दें कि पहले से ही एक कंसल्टेंट कंपनी एक्सप्रेस-वे के लिए नियुक्त थी, लेकिन सड़क निर्माण में इसकी लापरवाही भी सामने आई है। ऐसे में अब नई सलाहकार कंपनी को रखकर इसके दिशा-निर्देश में मजबूत सड़क बनेगी।

पांचों फ्लाईओवर की सड़क खराब : स्टेशन से तेलीबांधा के बीच बने सभी 5 फ्लाईओवर की सड़कें खराब हो गई हैं। सीटीअाई)की जांच तो पूरी हो गई है, लेकिन अभी एनआईटी की जांच चल रही है। सड़क की स्थिति ऐसी है कि पुलों की सड़कों को उखाड़कर नई बनानी पड़ेगी। नई सड़क बनाए बगैर इसपर ट्रैफिक शुरू करना संभव नहीं है। सीटीअाई ने एक्सप्रेस-वे पर करीब 13 जगह ओपन पिट मैथड यानी सड़क पर गड्ढे खोदकर सैंपल लिए थे और इनकी जांच की गई है।

रेलिंग पैनल करेंगे मजबूत : एक्स्प्रेस-वे के फ्लाईओवर को घेरने के लिए कंक्रीट के पैनल लगाए गए हैं। सड़क धसकने व दरार पड़ने से रेलिंग पैनल का ज्वाइंट भी छूट गया है। कई जगह यह नीचे की ओर झुके नजर अा रहे हैं। अगर फ्लाईओवर की सड़क फिर से बनाई जाती है, तो साथ ही पूरे हिस्से में कमजोर पड़े कांक्रीट पैनल को भी ठीक करना होगा।

सड़क की पूरी परतें बनानी होंगी : सड़क की मजबूत रखने के लिए विभिन्न परतों व कंपेक्शन का सैंपल फेल हो गया है। डामर वाली ऊपरी परत के नीचे रेती, मिट्‌टी, छोटी गिट्‌टी, बड़ी गिट्‌टी सहित अन्य निर्माण सामग्री का अनुपात सही नहीं पाया गया है। जांच में निर्माण के दौरान की गई दूसरी लापरवाहियां भी सामने अाई हैं, इसलिए मौजूदा सड़क की सभी परतों को दुबारा बनाना होगा। इस सड़क की जांच अभी एनअाईटी टीम को भी करनी है। 51 सैंपलों का लैब टेस्ट पूरा हो गया है। इसकी रिपोर्ट राज्य शासन के सामने रखी जाएगी। इसके बाद ही एक्सप्रेस-वे पर कोई फैसला लिया जाएगा।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना