लौह अयस्क खदानें और इस्पात संयंत्र आवश्यक सेवाओं की सूची में, लाॅक डाउन से दी गई है छूट

Bastar Jagdalpur News - लॉक डाउन के कारण एनएमडीसी में दो दिनों तक उत्पादन बंद रहा, लेकिन गुरुवार से फिर से यहां काम शुरू हो गया है। इसे...

Mar 27, 2020, 06:30 AM IST
Bacheli News - chhattisgarh news iron ore mines and steel plants in list of essential services exempted from lock down

लॉक डाउन के कारण एनएमडीसी में दो दिनों तक उत्पादन बंद रहा, लेकिन गुरुवार से फिर से यहां काम शुरू हो गया है। इसे लेकर फिर से किरंदुल नगर पालिका अध्यक्ष मृणाल रॉय ने आपत्ति जताई है। इसके लिए महाप्रबंधक को पत्र लिख काम बंद रखने को कहा है, ऐसा नहीं करने पर विरोध की भी चेतावनी दी है। इस पत्र की कॉपी प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री को भी भेजी जा रही है।

इधर एनएमडीसी प्रबंधन ने प्रेस रिलीज जारी कर अपना पक्ष रखा है। जारी विज्ञप्ति में प्रबंधन ने कहा है कि केंद्र सरकार द्वारा लौह अयस्क खदानों व इस्पात संयंत्रों के संचालन को आवश्यक सेवाओं की सूची में रखा गया है। ऐसे में नवर| कपंनी एनएमडीसी छत्तीसगढ़ की बैलाडीला स्थित अपनी खदानों से देश के इस्पात संयंत्रों को लौह अयस्क की निर्बाध आपूर्ति के लिए भरसक प्रयास कर रही है।

इस्पात मंत्रालय के निर्देशों के अनुरूप कंपनी द्वारा एक ओर जहां अपनी सभी खदानों व संयंत्रों में कार्मिकों के स्वास्थ्य व सुरक्षा के लिए कदम उठाए गए हैं, वहीं जिला प्रशासन के सहयोग से सीएसआर के तहत स्थानीय लोगों के बचाव और उपचार की भी समुचित पहल की जा रही है। केंद्र सरकार द्वारा इस्पात संयंत्रों व लौह अयस्क, कोयला, डोलोमाइट के रूप में इसके कच्चे माल की आपूर्ति के लिए खदानों को आवश्यक सेवा मानते हुए इनके उत्पादन, आपूर्ति एवं वितरण को लाॅक-आउट से छूट दी गई है। चूंकि एनएमडीसी से राष्ट्रीय इस्पात निगम लिमिटेड समेत कई इस्पात संयंत्रों को लौह अयस्क की आपूर्ति की जाती है, ऐसे में दंतेवाड़ा जिला प्रशासन द्वारा भी कंपनी के किरंदुल और बचेली में स्थित बैलाडीला लौह अयस्क खदानों को प्रतिबंध से मुक्त रखा गया है।

फिट होने पर ही ड्यूटी ज्वाइन, दूसरों को नहीं दे रहे प्रवेश


कार्मिक या उनके कोई परिजन किसी अन्य शहर या प्रदेश से वापस आते हैं तो परियोजना अस्पताल में उनकी जांच कराई जा रही है। कुशल चिकित्सकों की देखरेख में सभी परियोजना अस्पतालों में आइसोलेशन वार्ड की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा भी कई अन्य जगह संदिग्ध मरीजों को रखने की व्यवस्था की गई है। ऐसे कार्मिक या अधिकारी जो विदेश यात्रा से लौटे हैं, उन्हें 15 दिन क्वारेन्टाइन करने के बाद मेडिकली फिट होने का सर्टिफिकेट दिखाने पर ही ड्यूटी ज्वॉइन कराई जा रही है। विजिटर्स का प्रवेश प्रतिबंधित कर दिया गया है।

कोरोना को है हराना

X
Bacheli News - chhattisgarh news iron ore mines and steel plants in list of essential services exempted from lock down

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना