नशीली दवाओं की बिक्री पर होगी सख्ती मेडिकल का रिकार्ड कड़ाई से होगा चेक

News - राज्यभर में आसानी से मिल रही प्रतिबंधित नशीली दवाओं पर अब सख्ती होगी। ड्रग विभाग की टीम एक-एक मेडिकल स्टाेर्स में...

Nov 06, 2019, 08:00 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news medical records will be strictly on the sale of drugs check will be strictly
राज्यभर में आसानी से मिल रही प्रतिबंधित नशीली दवाओं पर अब सख्ती होगी। ड्रग विभाग की टीम एक-एक मेडिकल स्टाेर्स में शेडयूल-एच यानी ऐसी दवा जिसे डाक्टर की पर्ची के बिना बेचा नहीं जा सकता, उनका रिकार्ड चेक करेगी। इसके लिए राज्य स्तर पर अभियान चलाया जाएगा। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव नशीली दवाओं की सरेआम बिक्री के खुलासे बेहद नाराज हुए। उन्होंने इस पर तुरंत और सख्ती से पाबंदी लगाने का निर्देश दिया।

ड्रग विभाग की टीम अभी मेडिकल स्टोर्स में सख्ती से जांच नहीं कर रही है। शहर के भीतर के मेडिकल स्टोर्स में प्रतिबंधित दवाएं डाक्टर इतनी मात्रा में लिखते हैं कि एक महीने में ही डाक्टरी पर्ची की मोटी फाइल बन जाती है। ड्रग विभाग के अफसर एक-एक पर्ची देखकर, उसके हिसाब से मेडिकल स्टोर्स में उपलब्ध दवाओं का स्टॉक चेक नहीं कर सकते। आउटर के मेडिकल स्टोर्स में हर महीने जांच करना संभव नहीं हो पा रहा है। स्टाफ की कमी के कारण ड्रग विभाग के अफसर नियमित रूप से जांच के लिए कहीं जा ही नहीं रहे हैं। इसी का फायदा कुछ मेडिकल स्टोर्स वाले उठा रहे हैं। काेई मेडिकल वाले बिना की पूछताछ के तो कोई एक ही पर्ची की बार-बार फोटो कॉपी करवाकर नशीली दवाएं उपलब्ध करवा रहे हैं। थोड़े से मुनाफे के लिए दवा दुकान वाले ही नशा बेच रहे हैं। मंगलवार को आयोजित बैठक में इस मुद्दे पर लंबी चर्चा हुई। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने बैठक में अफसरों को साफ कहा कि इस पर रोक ही नहीं तत्काल रोक लगनी चाहिए। उन्होंने ड्रग विभाग के अफसरों से कहा कि इस प्रवृत्ति को रोकने के लिए कोई न कोई सिस्टम बनाएं।

बैठक में उठा भास्कर में प्रकाशित खबरों का मुद्दा, फिर निर्देश दिए

स्वास्थ्य विभाग की बैठक में सभी विंग के प्रमुख मौज्ूद थे। उसी में दैनिक भास्कर में प्रकशित हो रहीं नशीली दवाओं की तस्करी का मुद्दा उठा। स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि नशीली दवाओं का हमारी नस्ल पर असर पड़ रहा है।

दवाओं की कमी, मरीज हो रहे परेशान

अंबेडकर अस्पताल समेत जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र और प्राथमिक हेल्थ सेंटर में दवाओं की भारी कमी है। सीजीएमएससी समय पर दवाओं की सप्लाई नहीं कर पा रही है। इससे मरीजों को मेडिकल स्टोर से दवा खरीदनी पड़ रही है। मंगलवार को स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव ने कॉर्पोरेशन के अधिकारियों को कंपनियों से जल्द रेट कांट्रेक्ट कर दवा सप्लाई करने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि दवा का बजट बिल्कुल लैप्स न हों। उन्होंने दवा निर्माता कंपनियों व सप्लायरों को छत्तीसगढ़ आमंत्रित कर यहां की जरूरतों को बताने, टेंडर में भाग लेने के लिए प्रोत्साहित करने व उनके साथ बेहतर समन्वय बनाने को कहा। अति आवश्यक दवाइयों की सूची में शामिल 259 दवाओं को अस्पतालों की मांग के बजाय जरूरत के अनुसार खरीदने के निर्देश दिए।



उन्होंने खरीदी के लिए डीएमई, डीएचएस, एनएचएम व आयुष संचालनालय को जल्द राशि उपलब्ध कराने को कहा है। सिंहदेव ने कहा कि सीएमएचओ दवा न खरीदें।



सप्लाई कॉर्पोरेशन करे। उन्होंने चालू वित्तीय वर्ष सहित पिछले तीन वर्षों में दवाइयों के लिए आबंटित बजट व खरीदी की भी जानकारी ली। बैठक में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी भी मौजूद थे।

हर सरकारी अस्पताल में ब्लड बैंक, वहां लगेंगी हाईटेक मशीनें

सरकारी सामुदायिक और जिला अस्पतालों में ब्लड बैंक की सुविधा उपलब्ध कराए जाएंगे। स्वास्थ्य मंत्री सिंहदेव ने अफसरों को निर्देश दिए हैं कि ब्लड निकालकर उससे कंपोनेंट अलग करने की सुविधा होनी चाहिए। इसके लिए उन्होंने हर अस्पताल में ब्लड बैंक के साथ-साथ उसमें शामिल बाकी चीजें निकालकर उन्हें सुरक्षित रखने के निर्देश दिए। गौरतलब है कि ब्लड से ज्यादा समय तक उसमें शामिल कंपोनेंट। इस वजह से ब्लड की यूनिट मिलने पर उसमें से कंपोनेंट को अलग कर दिया जाता है।

X
Raipur News - chhattisgarh news medical records will be strictly on the sale of drugs check will be strictly
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना