राजेंद्र भारत के पहले और इकलौते ऐसे राष्ट्रपति थे जिनका कार्यकाल 2 बार का रहा : कायस्थ समाज

News - कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद की 135वीं जयंती मंगलवार को मनाई गई। जेल रोड...

Dec 04, 2019, 08:37 AM IST
Raipur News - chhattisgarh news rajendra was the first and only president of india to have a two term tenure kayastha samaj
कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर

देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद की 135वीं जयंती मंगलवार को मनाई गई। जेल रोड स्थित कायस्थ समाज के प्रधान मुख्यालय में विचार गोष्ठी का आयोजन कर उन्हें और देश के प्रति उनके योगदान को याद किया गया। समाज के अध्यक्ष राजेश सक्सेना ने इस दौरान कहा कि डॉ. राजेंद्र प्रसाद 1950 में देश के पहले राष्ट्रपति बने थे, लेकिन आज बहुत से युवा यह नहीं जानते कि वे 1957 में एक बार फिर वे देश के राष्ट्रपति बने। उनका कार्यकाल 12 साल का रहा। इस तरह वे देश में अब तक के इकलौते ऐसे शख्स हैं जिन्हें लगातार 2 बार राष्ट्रपति चुना गया।

विचार गोष्ठी में कायस्थ समाज ने शहर के प्रमुख चौराहे का नामकरण डॉ. राजेंद्र प्रसाद के नाम पर कर उनकी प्रतिमा स्थापित करने की मांग भी उठी। समाज के अध्यक्ष सक्सेना ने आगे कहा कि डॉ. राजेंद्र का जन्म 3 दिसंबर 1884 को हुआ था। पिता महादेव सहाय और माता कमलेश्वरी देवी थीं। पिता फारसी और संस्कृत भाषाओं के विद्वान तो माता धार्मिक महिला थीं। वे उन भारतीय नेताओं में से थे जिन्होंने भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष के रूप में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। महात्मा गांधी ने उन्हें अपने सहयोगी के रूप में चुना था और साबरमती आश्रम की तर्ज पर सदाकत आश्रम की एक नई प्रयोगशाला का दायित्व भी सौंपा था।

26 जनवरी 1950 को भारत को गणतंत्र राष्ट्र का दर्जा मिलने के साथ ही राजेंद्र प्रसाद देश के प्रथम राष्ट्रपति बने। सन् 1962 में उन्हें अपने राजनैतिक और सामाजिक योगदान के लिए भारत के सर्वश्रेष्ठ नागरिक सम्मान ‘भारत र|’ से भी नवाजा गया। बाद में उन्होंने राजनीति से संन्यास ले लिया और अपना शेष जीवन पटना के निकट एक आश्रम में बिताया, जहां 28 फरवरी, 1963 को उन्होंने अंतिम सांस ली। विचार गोष्ठी में जेके सक्सेना, राकेश श्रीवास्तव, राजेश श्रीवास्तव, अनिल श्रीवास्तव, रमेश श्रीवास्तव, भावना श्रीवास्तव, अल्का सक्सेना, राशिका सक्सेना, देवांश सक्सेना समेत बड़ी संख्या में समाज के लोग मौजूद रहे।

स्कूली छात्र-छात्राओं ने भी याद करते हुए दी सांस्कृतिक प्रस्तुति

शंकर नगर स्थित कल्याण पब्लिक स्कूल में भी डॉ. राजेंद्र प्रसाद की जयंती मनाई गई। स्कूली छात्र-छात्राओं ने इस मौके पर सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए। स्कूल की प्राचार्या शीला गुजर ने बच्चों को संबोधित करते हुए कहा कि डॉ. राजेंद्र महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानी, राष्ट्रभक्त और सादगी के प्रतिमूर्ति थे। हमें उनके बताए राह पर चलना चाहिए। अरूणा शुक्ला ने कहा कि नई पीढ़ी को हमारे सभी महापुरुषों के जीवन के बारे में बताना चाहिए ताकि वे उनसे प्रेरणा ले सकें। बच्चों ने भी उन्हें लेकर अपने विचार रखे।

राष्ट्रपति रहते किसी को दखलअंदाजी का मौका नहीं दिया: सीएम

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने डॉ. राजेंद्र प्रसाद को श्रद्धासुमन अर्पित करते हुए कहा कि राजेंद्र बाबू भारतीय स्वाधीनता संग्राम के महत्वपूर्ण राजनेताओं में से एक थे। उन्होंने संविधान सभा के अध्यक्ष के रूप में देश को एक मजबूत संविधान देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने राष्ट्रपति रहते हुए कभी अपने संवैधानिक अधिकारों पर किसी को दखलंदाजी करने का अवसर नहीं दिया। स्वतंत्र और निष्पक्ष रूप से काम किया। उनके श्रेष्ठ जीवन मूल्य और अमूल्य विचार हमें हमेशा प्रेरणा देते रहेंगे।


Raipur News - chhattisgarh news rajendra was the first and only president of india to have a two term tenure kayastha samaj
Raipur News - chhattisgarh news rajendra was the first and only president of india to have a two term tenure kayastha samaj
X
Raipur News - chhattisgarh news rajendra was the first and only president of india to have a two term tenure kayastha samaj
Raipur News - chhattisgarh news rajendra was the first and only president of india to have a two term tenure kayastha samaj
Raipur News - chhattisgarh news rajendra was the first and only president of india to have a two term tenure kayastha samaj
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना