पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Raipur News Chhattisgarh News Sell Increases At Reduced Prices Dismal Situation In Domestic And Foreign Stock Markets

घटी कीमत पर ही बिकवाली बढ़ी, घरेलू-विदेशी शेयर बाजारों में निराशाजनक स्थिति

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

मुंबई| पिछले दो सप्ताहों से कोरोना वायरस के कारण जो शेयर बाजारों का हाल देखने को मिल रहा है, उसमें मंदी का संकेत मिलने लगा है। कारण निवेशक देशी हो या विदेशी, शेयरों में कमजोर कीमत पर ही बिकवाली बढ़ा दिए जाने से शेयरों में लिवाली में भारी कमी आ गई है, जिससे शेयर बाजारों में निराशाजनक स्थिति बन गई है। वहीं देश के कुछ बैंकों का कर्ज फंसने एवं गैर-प्रदर्शन संपत्ति(एनपीए) नॉन परफॉर्मिंग एसेट्स फिर बढ़ने के संकेतों से बैंकों के शेयरों सहित इन्फ्रा सैक्टर पर भी प्रभाव पड़ा है, जिसमें ऑटो व मैटल उपकरणों (टिकाऊ उपभोक्ता सामानों), स्टील, इंजीनियरिंग गुड्ïस, तेल क्षेत्र आईटी, रिलायंस ग्रुप, विद्युत, रीयल एस्टेट क्षेत्र का कारोबार घटने से इनके शेयरों में गिरावट आने से करीब घरेलू शेयरों बाजारों में औसतन गत सप्ताह 95 प्रतिशत शेयर टूटकर बंद हुए। आलोच्य सप्ताह घरेलू शेयर बाजारों में शेयरों में भारी बिकवाली से हा-हाकार मच गया। गुड्स ट्रेड में घरेलू बिक्री के अलावा विदेशों से भी गुड्स की खरीद-फरोख्त लगभग समाप्त हो गई है। बिक्री घटने से घरेलू कंपनियों को ऑर्डर में कमी आने के अलावा परचेजिंग मैनेजिंग इंडैक्स (पीएमआई) घटने का अंदेशा हो गया है। वहीं आने वाले समय में खुदरा व थोक महंगाई में भी आगे कमी के आसार देखने को मिल सकते हैं। बाजार सूत्रों के अनुसार कुछ शेयरों की घटी कीमत पर ही भारी बिकवाली के समाचारों से कई कंपनियों के शेयर लुढ़क गए, जिससे निवेशकों का कई लाख करोड़ रुपया डूब गया है। वहीं कुछ बैंकों का एनपीए बढ़ जाने से बैंकिंग क्षेत्र में हलचल हो गयी है, जिससे पब्लिक सेक्टर बैंकों के शेयरों में मंदी देखने को मिली है। किसी-किसी बैंक के शेयर में अच्छीखासी गिरावट देखने को मिली है। इससे संबंधित कारोबार अर्थात् लोन संबंधी प्रक्रिया उलझ जाने से कई सैक्टर प्रभावित होने के समाचार हैं।

समीक्षा**
खबरें और भी हैं...