सुधर्म जैन समाज और वर्धमान मित्र मंडल ने लगाया कृत्रिम हाथ वितरण शिविर

News - कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर कवर्धा के कुंजलाल बिहारी 2009 में एक दुर्घटना में अपने दोनों हाथ गंवा चुके हैं।...

Nov 11, 2019, 07:41 AM IST
कम्युनिटी रिपोर्टर | रायपुर

कवर्धा के कुंजलाल बिहारी 2009 में एक दुर्घटना में अपने दोनों हाथ गंवा चुके हैं। हफ्तेभर पहले वे इस उम्मीद के साथ रायपुर आए थे कि कृत्रिम हाथ लग जाएं तो एक बार फिर वे अपनी बहनों से राखी बंधवा पाएंगे। रविवार को जब उन्हें कृत्रिम हाथ दिए गए और उन्होंने उन हाथों को काम करते देखा तो फूट-फूटकर रो पड़े। ऐसे ही राजनांदगांव के शेख सलीम ने सालों बाद रविवार को अपने खुदा की इबादत के लिए हाथ उठाए। यह सब मुमकिन हो पाया सुधर्म जैन समाज और वर्धमान मित्र मंडल के सहयोग से। संस्थाओं ने निशुल्क शिविर के जरिए 75 दिव्यांगों में कृत्रिम हाथ बांटे हैं। नाकोड़ा पाश्र्वनाथ तीर्थ और भगवान महावीर विकलांग सेवा सहायता समिति के सहयाेग से देवेंद्र नगर, सेक्टर-4 स्थित जैन भवन में इस शिविर का आयोजन किया गया था। रविवार को राज्यपाल अनुसुइया उइके की मौजूदगी में गुजराती स्कूल में इसका समापन किया गया। इस दौरान 50 लोगों में श्रवण यंत्र, 50 लोगों में बैसाखी और 5 जरूरतमंद महिलाओं में सिलाई मशीनें भी बांटी गईं। राज्यपाल उइके ने कहा कि दिव्यांगों को अंग देना उन्हें नया जीवन देने जैसा है। इसी संस्था ने पहले भी शिविर लगाकर करीब साढ़े 4 सौ कृत्रिम हाथ बांटे हैं। इस बार भी 75 हाथ बांटे गए। सभी समाजसेवी संस्थाओं को ऐसे कार्यों के लिए आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि दृढ़ इच्छाशक्ति हो तो व्यक्ति लक्ष्य को प्राप्त करके रहता है। अरूणिमा सिन्हा का ही उदाहरण ले लीजिए, जो विश्व की इकलौती दिव्यांग महिला है जिन्होंने कृत्रिम पैर के सहारे माउंट एवरेस्ट समेत दुनिया की कई प्रमुख पर्वत चोटियों पर फतह की है। छत्तीसगढ़ में दिव्यांग पर्वतारोही चित्रसेन साहू ने भी तंजानिया के सबसे ऊंची चोटी माउंट किलमिंजारो को फतह कर रिकॉर्ड बनाया है। इस दौरान विधायक कुलदीप जुनेजा, चेंबर ऑफ कॉमर्स के अध्यक्ष जितेंद्र बरलोटा, समाजसेवी आसकरण बोथरा, संपत झाबक, मुकेश शाह, लक्ष्मीनारायण लाहोटी, इंद्रजीत सलूजा मौजूद रहे। कार्यक्रम के दौरान मल्ली महिला मंडल व शीतल बहु मंडल ने मंगलाचरण की प्रस्तुति भी दी।

10 साल से राखी नहीं बंधवाई थी, कृत्रिम हाथ लगे तो बहन को याद करते हुए रो पड़े कुंजलाल, सलीम ने भी सालों बाद पढ़ी नमाज... शिविर ने बदली ऐसे 75 की जिंदगी

दिव्यांगों को दो दिन पहले शिविर में बुलाकर हाथ का इस्तेमाल करने की ट्रेनिंग राजस्थान से आए कारीगरों की देखरेख में दी।

जुनेजा की चौपाटी में पहुंचीं राज्यपाल

शिविर से लौटते वक्त राज्यपाल उइके कुछ समय के लिए देवेंद्र नगर चौक स्थित विधायक जुनेजा की चौपाटी में रूकीं। यहां उन्होंने राहगीरों के लिए निर्माणाधीन शेड का अवलोकन किया। इस काम के लिए उन्होंने विधायक जुनेजा की सराहना करते हुए कहा कि आपका यह प्रयास गर्मी के लोगों को छाया देगा।

भगवान महावीर के संदेशों पर चलते हुए कुछ बेहतर करने का प्रयास: मालू

सुधर्म जैन समाज के अध्यक्ष हरख मालू और वर्धमान मित्र मंडल के अभिषेक गांधी ने कहा कि भगवान महावीर ने जीयो और जीने दो का संदेश दिया था। मानव सेवा को उन्होंने सबसे बड़ी सेवा बताया था। उन्हीं के संदेशों पर चलकर हम समाज के लिए कुछ बेहतर करने का प्रयास कर रहे हैं। पहले हमने शिविर के जरिए 50 कृत्रिम हाथों का वितरण करने का लक्ष्य निर्धारित किया था, लेकिन छत्तीसगढ़ समेत 4 अन्य राज्यों से बड़ी संख्या में पंजीयन आए। करीब 100 लोगों ने कृत्रिम हाथ के लिए हमसे संपर्क किया। इनमें से 25 ऐसे थे जिनके कंधे या कोहनी के नीचे 3 इंच हिस्सा नहीं था।

इस वजह से इनका हाथ बनाना संभव नहीं था।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना