पेंटिंग में उकेरी बस्तर की मृतक स्तंभ परंपरा और ग्रामीण परिवेश

News - एयरपोर्ट की आर्ट गैलरी में केवी-1 के ड्रॉइंग टीचर डाॅ. ध्रुव तिवारी की पेंटिंग प्रदर्शित की गई हैं। ‘छत्तीसगढ़ कलर’...

Nov 10, 2019, 07:46 AM IST
एयरपोर्ट की आर्ट गैलरी में केवी-1 के ड्रॉइंग टीचर डाॅ. ध्रुव तिवारी की पेंटिंग प्रदर्शित की गई हैं। ‘छत्तीसगढ़ कलर’ थीम पर डॉ. ध्रुव ने राज्य की परंपराएं, ग्रामीण परिवेश, बस्तर की मृतक स्तंभ परंपरा को पेंटिंग के जरिए दिखाया है। उन्होंने कई पेंटिंग में बस्तर की कला को कैनवास पर उकेरा है। उन्होंने बताया, बस्तर के आदिवासी कला में मृतक स्तंभ सबसे अहम होता है। उनके समुदाय में मृतक अनुष्ठान अनिवार्य अंग है। बस्तर अंचल में रास्तों के दोनों तरफ ये स्तंभ दिखाई देते हैं। मृतक स्तंभ बनाने की प्रथा का पुराना इतिहास है। स्थानीय भाषा में इसे ‘गुड़ी’ कहा जाता है। प्राचीन काल में जनजातियों में पूर्वजों को जहां दफनाया जाता था वहां 6 से 7 फीट ऊंचा एक फीट चौड़ा नुकीला पत्थर रखा जाता था। एग्जीबिशन में कई यात्रियों को डॉ. ध्रुव की पेंटिंग के जरिए आदिवासी पंरपराओं को जानने का मौका मिला। एग्जीबिशन 13 नवंबर तक चलेगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना