लड़की के पैदा होते ही उसे अनाथ आश्रम में छोड़ गए मां-बाप, कोई परिवार गोद लेने को नहीं था राजी, फिर सामने आया एक कपल और दी नई जिंदगी

अब नीली आंखों वाली इस बच्ची के लिए कपल को लेना पड़ा ये बड़ा फैसला

dainikbhaskar.com

Mar 17, 2019, 10:52 PM IST
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed

बफोर्ड. अमेरिका में एक कपल के घर पल रही नीली आंखों वाली 5 साल की बच्ची फिर खबरों में है। कपल ने जब चीन से बच्ची को गोद लिया था, तब उसे ग्लूकोमा से पीड़ित बताया गया था। पर कुछ महीनों पहले उसकी आंखों की परेशानी इतनी बढ़ गई कि कपल को आंखें निकलवाने का बड़ा फैसला लेना पड़ा। हालांकि, अब उसने रिकवरी कर ली है। बता दें, लड़की के पैदा होते ही पेरेंट्स उसे अनाथ आश्रम में छोड़ गए थे और कोई भी परिवार उसे गोद लेने को तैयार नहीं था।

आंखों की तकलीफ ने जीना किया मुश्किल
- जॉर्जिया स्टेट के बफोर्ड में प्रिमरोज ऑस्टिन पिता क्रिस और मां एरिन के साथ रह रही है। कपल ने उसे 2016 में चीन के अनाथ आश्रम से गोद लिया था।
- कपल को बताया गया था कि बच्ची जन्म से ही ग्लूकोमा बीमारी से पीड़ित है, जिसके चलते वो देख भी नहीं सकती और सुन भी नहीं सकती है।
- प्रिमरोज को जब अमेरिका लाया गया और टेस्ट कराए गए, जब पता चला की 6पी25 डिलीशन सिन्ड्रोम के चलते आंखों में तकलीफ, ब्रेन की संरचना में परेशानी और बाकी परेशानियां है।
- करीब 8 महीने पहले बच्ची की तकलीफें इतनी बढ़ गईं कि उसे संभालना मुश्किल हो गया। मां एरिन ने बताया कि हम भारी कन्फ्यूजन में रहते और हमें ये तक समझ नहीं आता कि आखिर कैसे तकलीफ दूर करें।
- वो भयानक दर्द में थी और उसका नर्वस सिस्टम प्रभावित होने लगा था। उसने खाना-पीना सब छोड़ दिया था। शरीर में पानी की कमी न हो इसलिए सिरिंज से मुंह में पानी डाला जा रहा था।

पेरेंट्स ने लिया अहम फैसला
- प्रिमरोज दर्द के चलते दिन में 16-16 घंटे रोती रहती थी। 11 स्पेशलिस्ट डॉक्टर्स की टीम उसकी तकलीफ दूर करने में लगी रहती, जिसके बाद उन्हें बेटी के लिए एक अहम फैसला लेना पड़ा।
- एरिन के मुताबिक, प्रिमरोज की आंखें निकलवाने का फैसला बहुत ही मुश्किल था लेकिन उसके लिए 100 फीसदी सही था। दो हफ्ते बाद जैसी उसने रिकवरी की उसकी उम्मीद भी नहीं थी।
- मां ने बताया कि ये हमारे लिए चमत्कार था कि दो ही दिन बाद प्रिमरोज अपने पैरों पर खड़ी थी और मुस्कुरा रही थी। ऐसा महीनेभर में पहली बार हुआ था।
- एरिन के मुताबिक, ये हमारे लिए बिल्कुल नई दुनिया थी। हम बहुत अच्छा और पॉजीटिव महसूस कर रहे थे। हमें उम्मीद बंध गई कि अभी और भी बहुत सारे अच्छे बदलाव हमें देखने हैं।
- उसने कहा कि दूसरे बच्चे उसे राक्षस बुलाते हैं और उसे देखकर रोते-चिल्लाते हैं लेकिन वो अपनी बिल्कुल अलग किस्म की आंख के साथ भी बहुत खूबसूरत है।

जन्म के बाद मां-बाप ने छोड़ा
- चीन की प्रिमरोज गंभीर रूप से ग्लूकोमा से पीड़ित है, जिसके चलते उसकी आंखें बिल्कुल सिल्वर ब्लू रंग की हैं और उनमें जरा भी रोशनी नहीं है।
- इसके चलते प्रिमरोज के बायोलॉजिकल पेरेंट्स ने उसे जन्म के चंद दिनों बाद ही अपनाने से इनकार कर दिया और एक अनाथ आश्रम में छोड़ दिया।
- बच्ची को नए परिवार का इंतजार था, जो उसका ख्याल रख सके लेकिन जन्म के बाद महीनों बीत गए और ये इंतजार खत्म नहीं हुआ। उसे अपनाने के लिए कोई आगे नहीं आया।
- इसी बीच क्रिस और ऐरिन फेसबुक स्क्रॉल कर रहे थे कि तभी इनकी नजर प्रिमरोज की फोटो पर पड़ी। दोनों ने उसे गोद लेने का फैसला किया।

Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
X
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
Chinese orphan ultra-rare silver eyes removed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना