इंजीनियरिंग कॉलेज का निर्माण कार्य हुआ बंद, मजदूर परेशान

Jehanabad News - कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए हर कोई सहमा हुआ है। कोरोना के कहर ने ना सिर्फ बड़े कारोबारी और बाजार...

Mar 27, 2020, 07:15 AM IST
Jehanabad News - construction work of engineering college stopped workers upset

कोरोनावायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए हर कोई सहमा हुआ है। कोरोना के कहर ने ना सिर्फ बड़े कारोबारी और बाजार व्यवस्था प्रभावित की है। बल्कि दिहाड़ी मजदूरी करने वाले मजदूरों की रोजी-रोटी भी प्रभावित हुई है। जिले में लॉक डाउन होने से शिवपुर मे निर्माणाधीन इंजीनियरिंग कॉलेज का काम बंद कर दिया गया है। जिसमें काम करने वाले लगभग दो सौ बाहरी मजदूरों के पास रोजी रोटी का संकट उत्पन्न हो गया है। इंजीनियरिंग कॉलेज में काम करने वाले मजदूर कोई नालंदा जिला का रहने वाला है। तो कोई मुजफ्फरपुर का कोई बाढ़ का है तो कोई सहरसा, दरभंगा, अररिया,किशनगंज, मधेपुरा, वैशाली,पूर्णिया और कटिहार का हैं। ये सभी मजदूर अपने परिवार का पालन पोषण करने के लिए इंजीनियरिंग कॉलेज के निर्माण में मजदूरी का काम कर रहे थे। कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लॉक डाउन की घोषणा कर दी गई। जिसके बाद इनका कामकाज ठप हो गया। काम बंद होने के बाद कोई भी मजदूरी का काम नहीं बचा और ना ही इनके घर जाने के लिए साधन है। बस व ट्रेन सेवा बंद होने से ये लोग शिवपुर में ही फंसे हुए हैं। इन दिहाड़ी मजदूरों को ठेकेदार के तरफ से किसी तरह की मदद नहीं दी जा रही है। जिसके बाद इनके पास खाने के भी लाले पड़े हैं। मजदूरों ने बताया कि जहानाबाद और मखदुमपुर समेत नजदीकी क्षेत्र के लोग अपने घर चले गए। इन लोगों के पास घर जाने के लिए कोई साधन नहीं है। इसीलिए ये लोग यहीं फंसे हुए हैं। इन दिहाड़ी मजदूरों ने अरवल जिलाधिकारी रविशंकर चौधरी से गुहार लगाई है कि उनके घर जाने की व्यवस्था की जाए। लॉक डाउन होने के कारण ये लोग जिलाधिकारी तक नहीं पहुंच सकते हैं।इसीलिए इन मजदूरों ने मीडिया के माध्यम से जिला प्रशासन को अपनी ओर ध्यान आकृष्ट करा रहे हैं।

मजदूरों को सिर्फ हम दंे सकते हैं नाश्ता

निर्माणाधीन इंजीनियरिंग कॉलेज में काम करने वाले मजदूरों को लेकर शांति कंस्ट्रक्शन ठेकेदार अर्जुन राय से बात की गई।तो उसने बताया कि हम सिर्फ मजदूरों को नाश्ता दे सकता हैं। इसके अलावा हम और कुछ नहीं दे सकते। काम बंद होने के कारण मुझे भी कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में इतने मजदूरों का खाना पीना देना संभव नहीं है।
अर्जुन राय, ठेकेदार

ऐसे स्थिति है कि कोरोना से पहले भूख से मर जाएंगे साहेब

दरभंगा जिला का रहने वाला गजेंद्र कुमार ने रोते हुए बताया कि परिवार की माली हालत बहुत खराब है। घर जाने का साधन तो उपलब्ध हो जाएगा।लेकिन परिवार का भरण पोषण कैसे होगा। यह सबसे बड़ी बात है। एक तरफ बाढ़ के कहर से पहले ही सौ तरह की परेशानियां का सामना करना पड़ रहा है। कर्ज में डूबे हुए हैं।अब यहां भी काम बंद हो गया। पहले हमारे गांव में बाढ़ ने कहर बरपाया। अब कोरोना ने हमारी रोजी-रोटी छीन ली। हम लोगों का दर्द को कोई समझने वाला नहीं है। ना तो सरकार से कोई मदद मिलती है।

काम बंद होने के चलते भोजन पर है आफत।

X
Jehanabad News - construction work of engineering college stopped workers upset

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना