Hindi News »Sports »Other Sports »Hockey» CWG 2018: India Hockey And Other Games Round Up News And Updates

कॉमनवेल्थ गेम्स : भारत की मेन्स हॉकी टीम सेमीफाइनल में पहुंची, मलेशिया को 2-1 से हराया

भारत के लिए दोनों गोल हरमनप्रीत सिंह ने किए।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Apr 10, 2018, 10:47 AM IST

  • कॉमनवेल्थ गेम्स : भारत की मेन्स हॉकी टीम सेमीफाइनल में पहुंची, मलेशिया को 2-1 से हराया, sports news in hindi, sports news
    +2और स्लाइड देखें
    हिना के गोल्ड मेडल जीतने पर उनके पति रौनक पंडित ने उन्हें बाहों में भर लिया। पति ही उनके कोच भी हैं।

    • गोल्ड जीतने वाली हिना और सिल्वर जीतने वाली एलेना गैलियाबोविचदोनों डॉक्टर हैं।
    • हिना के पति रौनक उनके कोच हैं तो एलेना के पिता व्लादिमीर गैलियाबोविच उनके कोच हैं।
    • हिना दो बार (2012, 2016) की ओलिंपियन रही हैं।

    गोल्ड कोस्ट.कॉमनवेल्थ गेम्स में मंगलवार को हिना सिद्धू ने 25 मीटर पिस्टल में देश के लिए सोना जीता। इसके अलावा सचिन चौधरी ने पैरा पॉवरलिफ्टिंग की हैवीवेट कैटेगरी में देश के लिए ब्रॉन्ज मेडल जीत लिया। इस कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के अब 11 गोल्ड समेत 21 मेडल हो गए हैं। वह मेडल टैली में तीसरे स्थान पर है। वूमेन्स 25 मीटर पिस्टल में ऑस्ट्रेलिया की एलेना गैलियाबोविच ने सिल्वर और मलेशिया की आलिया सजाना अजाहारी ने ब्रॉन्ज जीता। उधर, भारत की मेन्स और वूमेन्स हॉकी टीमें भी सेमीफाइनल में पहुंच गईं हैं।

    हिना के गोल्ड जीतने का सफर

    स्टेज-1

    - तीन राउंड के बाद 10 अंक के साथ संयुक्त रूप से दूसरे नंबर पर थीं।

    स्टेज-2 एलिमिनेशन

    पहला राउंड: 13 अंक, दूसरे नंबर पर आ गईं।
    दूसरा राउंड: 18 अंक, दूसरे स्थान पर बनी रहीं।
    तीसरा राउंड: 23 अंक, एलेना के साथ संयुक्त रूप से पहले नंबर पर पहुंचीं।
    चौथा राउंड: 27 अंक, एलेना को दूसरे स्थान पर धकेल दिया।
    पांचवां राउंड: 31 अंक, पहला स्थान बरकरार रखा।
    छठा राउंड: 34 अंक के साथ एलेना पर अपनी लीड बरकरार रखी।
    सातवां और फाइनल राउंड: 38 अंक, गोल्ड अपने नाम कर लिया। एलेना को 35 अंकों के साथ सिल्वर से संतोष करना पड़ा।

    - वूमेन्स 25 मीटर पिस्टल में हिना का कॉमनवेल्थ गेम्स में यह रिकॉर्ड भी है।

    हिना का कॉमनवेल्थ गेम्स में दूसरा गोल्ड

    2010, दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स: पेयर्स 10 मीटर एयर पिस्टल में गोल्ड जीता।
    2010, दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स: 10 मीटर एयर पिस्टल में सिल्वर भी जीता।
    2014 ग्लासगो कॉमनवेल्थ गेम्स: 10 मीटर एयर पिस्टल में सातवें स्थान पर रहीं।

    8 अप्रैल 2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ: 10 मीटर एयर पिस्टल में सिल्वर जीता।

    गोल्ड-सिल्वर जीतने वाली दोनों शूटर 3 चीजें कॉमन

    1) दोनों डॉक्टर
    - लुधियाना में जन्मीं हिना डेंटल सर्जन हैं। उन्होंने पटियाला के ज्ञान सागर डेंटल कॉलेज एंड हॉस्पिटल से डिग्री हासिल की है।
    - एलेना गैलियाबोविच ने विक्टोरिया (ऑस्ट्रेलिया) की यूनिवर्सिटी ऑफ मेलबर्न से मेडिसिन में डिग्री हासिल की है।

    2) दोनों के कोच परिजन

    - हिना के कोच पति रौनक पंडित हैं। रौनक भी इंटरनेशनल शूटर हैं। हिना के पिता रणबीर सिंह नेशनल शूटर रह चुके हैं। उनके चाचा गन स्मिथ (बंदूक ठीक करने वाले) हैं।
    - एलेना के कोच उनके पिता व्लादिमीर गैलियाबोविच हैं।

    3) दोनों पढ़ने की शौकीन

    - हिना और एलेना दोनों को किताबें पढ़ना पसंद है।

    दो बार की ओलिंपियन हैं हिना
    2012 लंदन ओलिंपिक: 10 मीटर एयर पिस्टल में 12वां स्थान।
    2016 रियो डी जेनेरियो ओलिंपिक: 10 मीटर एयर पिस्टल में 14वां स्थान।
    2016 रियो डी जेनेरियो ओलिंपिक:25 मीटर एयर पिस्टल में 20वां स्थान।
    2010 म्युनिख (जर्मनी) वर्ल्ड चैम्पियनशिप: 10 मीटर एयर पिस्टल में 12वें स्थान पर रहीं।
    2014 ग्रानाडा (स्पेन) वर्ल्ड चैम्पियनशिप: 10 मीटर एयर पिस्टल 16वें स्थान पर रहीं।

    नारंग और चैन सिंह नहीं जीत पाए मेडल

    - कॉमनवेल्थ गेम्स में मंगलवार को ही 50 मीटर राइफल प्रोन शूटिंग में गगन नारंग और चैन सिंह भारत को मेडल नहीं दिला पाए थे।
    - हालांकि, चैन सिंह इस इवेंट में 14वें शॉट तक संयुक्त रूप से तीसरे पर चल रहे थे, लेकिन 15वें शॉट के बाद वह चौथे पर पहुंच गए।
    - 18वें शॉट के बाद उनका और ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले इंग्लैंड के केनेथ पार के बीच सिर्फ 0.3 अंक का अंतर था लेकिन 19वें शॉट में चैन 9.3, जबकि केनेथ ने 9.7 का स्कोर किया। 20वें शॉट के बाद चैन का स्कोर 204.8 वहीं, केनेथ का 205.5 था। इसके साथ ही वह मेडल की दौड़ से बाहर हो गए।
    - इस इवेंट में भारत के लिए पदक की सबसे बड़ी उम्मीद गगन नारंग से थी, लेकिन 14वें शॉट के बाद ही एलिमिनेट हो गए। हालांकि 5 शॉट के बाद वह तीसरे स्थान पर थे।

    सचिन चौधरी का कॉमनवेल्थ गेम्स में पहला मेडल
    - पैरा पॉवरलिफ्टिंग की हैवीवेट कैटेगरी में सचिन ने 181 अंक हासिल कर ब्रॉन्ज जीता। उत्तर प्रदेश के मेरठ के रहने वाले सचिन का कॉमनवेल्थ गेम्स में यह पहला मेडल है।
    - नाइजीरिया के अब्दुल्लाअजीज इब्राहिम ने 191.9 अंक के साथ गोल्ड, जबकि मलेशिया के यी खी जोंग ने 188.7 अंक के साथ सिल्वर जीता।
    - सचिन 2010 दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स में ओपन बेंच प्रेस कैटेगरी में आठवें और 2006 में 13वें स्थान पर रहे थे।

    - 2012 लंदन पैरालिंपिक्स में 82 किग्रा कैटेगरी में नौवें स्थान पर रहे थे।
    - 2017 मेक्सिको सिटी वर्ल्ड चैम्पियनशिप में मेन्स 88 किग्रा पांचवें स्थान पर रहे थे।
    - 2010 कुआलांलपुर वर्ल्ड चैम्पियनशिप में 82.5 किग्रा कैटेगरी में भी पांचवें स्थान पर रहे थे।

    पदक तालिका: टॉप 5 देश

    देशगोल्डसिल्वरब्रॉन्जकुल
    ऑस्ट्रेलिया483741126
    इंग्लैंड24282173
    भारत114620
    कनाडा8201543
    न्यूजीलैंड8107

    25

    * यह तालिका भारतीय समयानुसार मंगलवार शाम 5:20 बजे तक अपडेट है।

  • कॉमनवेल्थ गेम्स : भारत की मेन्स हॉकी टीम सेमीफाइनल में पहुंची, मलेशिया को 2-1 से हराया, sports news in hindi, sports news
    +2और स्लाइड देखें
    कॉमनवेल्थ गेम्स में हिना सिद्धू की जीत के साथ ही भारत के 11 गोल्ड हो गए हैं। -फाइल
  • कॉमनवेल्थ गेम्स : भारत की मेन्स हॉकी टीम सेमीफाइनल में पहुंची, मलेशिया को 2-1 से हराया, sports news in hindi, sports news
    +2और स्लाइड देखें
    सचिन 2010 दिल्ली कॉमनवेल्थ गेम्स में ओपन बेंच प्रेस कैटेगरी में आठवें स्थान पर रहे थे।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Hockey

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×