Hindi News »Sports »Other Sports »Others» CWG 2018: Indian Mens Table Tennis Team Wins Gold, Beats Nigeria In Final

कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय मेन्स टेबल टेनिस टीम ने गोल्ड जीता, नाइजीरिया को 3-0 से हराया

कॉमनवेल्थ गेम्स में 16 साल बाद मेन्स और वूमेन्स टीम ने गोल्ड जीता।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Apr 09, 2018, 03:58 PM IST

कॉमनवेल्थ गेम्स में भारतीय मेन्स टेबल टेनिस टीम ने गोल्ड जीता, नाइजीरिया को 3-0 से हराया, sports news in hindi, sports news

गोल्ड कोस्ट.कॉमनवेल्थ गेम्स में सोमवार को भारत ने बैडमिंटन मिक्स्ड टीम इवेंट में गोल्ड जीता। फाइनल में उसने तीन बार के चैम्पियन मलेशिया को 3-1 से हराया। इस इवेंट में भारत ने 40 साल बाद गोल्ड जीता है, क्योंकि इस इवेंट को कॉमनवेल्थ गेम्स में 1978 में पहली बार शामिल किया गया था। कॉमनवेल्थ गेम्स के बैडमिंटन में भारत के अब 20 मेडल हो चुके हैं। इससे पहले भारत ने मेन्स टेबल टेनिस टीम इवेंट का भी गोल्ड अपने नाम किया। खिताबी मुकाबले में उसने नाइजीरिया को 3-0 से हराया।

चार मैच, वक्त: 210 मिनट, मिक्सड, दोनों सिंगल्समें भारत जीता,मेन्स डबल्स में हारा

मिक्स्ड डबल्स: मैच टाइम- 65 मिनट
- अश्विनी पोनप्पा और सात्विक रंकीरेड्‌डी ने मलेशिया की लियु यिंग गोह और पेंग सून चान की जोड़ी के खिलाफ पहला सेट 21-15 के अंतर से जीता।
- दूसरे सेट में अश्विनी और सात्विक के बीच तालमेल गड़बड़ाया और गोह-चान की जोड़ी ने स्कोर 21-14 कर इसे जीत लिया।
- तीसरे सेट में एक समय भारतीय जोड़ी 7-12 से पीछे थी, लेकिन उसने लगातार आठ प्वाइंट लिए। स्कोर 15-12 कर लिया। बाद में लीड बरकरार रखते हुए 21-15 से सेट और पहला मिक्सड डबल्स अपने नाम कर लिया।

मेन्स सिंगल्स: मैच टाइम- 43मिनट

- पहले सेट में किदांबी श्रीकांत ने मलेशिया के ली चोंग वी को 21-17 से हराया। दूसरा सेट 21-14 से जीतकर भारत की लीड 2-0 कर दी।
- श्रीकांत ने पूरे मैच के दौरान अपने से कहीं अनुभवी ली चोंग को कभी भी संभलने का मौका नहीं दिया।
- ली चोंग वी 2006 और 2010 कॉमनवेल्थ गेम्स में मेन्स सिंगल्स इवेंट में चैम्पियन रह चुके हैं।

मेन्स डबल्स: मैच टाइम- 38मिनट
- पहले सेट में मलेशिया के वी शेम गोह और वी कियोंग तान ने भारत के सात्विक रंकीरेड्‌डी और चिराग चंद्रशेखर शेट्‌टी की जोड़ी को 21-15 से हरा दिया। यह सेट 17 मिनट तक चला।
- दूसरे सेट में सात्विक और चिराग ड्यूस कराने में सफल रहे, लेकिन तान और गोह का अनुभव भारी पड़ा और उन्होंने 22-20 से जीत दर्ज की। साथ ही भारत की लीड 2-1 कर दी।

वूमेन्स सिंगल्स: मैच टाइम- 64मिनट
- साइना नेहवाल ने मलेशिया की सोनिया चियाह को 19 मिनट में 21-11 से हराकर पहला सेट जीत लिया।
- दूसरे सेट में साइना 13-11 से आगे चल रही थीं। तभी सोनिया के हाथ में चोट लगी और उन्होंने मेडिकल टाइम आउट लिया। बाद में सोनिया ने यह सेट 21-19 से जीत लिया। यह मुकाबला 27 मिनट तक चला।

- तीसरे सेट में साइना ने 18 मिनट में सोनिया की चुनौती तोड़ दी। उन्होंने 21-9 से सेट और मैच जीत लिया। साथ ही भारत की झोली में गोल्ड डाल दिया।

- साइना और अश्विनी पोनप्पा कॉमनवेल्थ गेम्स में दो गोल्ड जीतने वाली भारतीय शटलर बन गईं हैं।

भारतीय शटलरों का फाइनल तक का सफर
- सेमीफाइनल में सिंगापुर को 3-1 से हराया।
- क्वार्टर फाइनल में मॉरीशश को 3-0 से हराया।
- ग्रुप स्टेज के पहले मैच में श्रीलंका को 5-0 से हराया।
- ग्रुप स्टेज के दूसरे मैच में पाकिस्तान को 5-0 से हराया।
- ग्रुप स्टेज के तीसरे मैच में स्कॉटलैंड को 5-0 से हराया।

1978 में पहली बार किया गया शामिल
- 1966 किंग्सटन कॉमनवेल्थ गेम्स में पहली बार बैडमिंटन शामिल किया गया।
- 1974 तक मेन्स सिंगल्स, वूमेन्स सिंगल्स, मेन्स डबल्स, वूमेन्स डबल्स और मिक्सड डबल्स के ही इवेंट होते थे। 1978 में मिक्सड टीम इवेंट शामिल किया गया।
- 1998 में मेन्स टीम और वूमेन्स टीम इवेंट शामिल किया गया। इस बार मिक्सड टीम इवेंट नहीं रखा गया।
- 2002 से मेन्स टीम और वूमेन्स टीम इवेंट हटाकर फिर से मिक्सड टीम इवेंट शामिल किया गया।

कॉमनवेल्थ गेम्स में बैडमिंटन में भारत को 20वां गोल्ड

- कॉमनवेल्थ गेम्स में बैडमिंटन में भारत अब तक 20 मेडल जीत चुका है। मिक्सड टीम इवेंट में उसका यह पहला और ओवरऑल छठा गोल्ड है। वह 4 सिल्वर और 10 ब्रॉन्ज भी जीत चुका है।
- 1966 में दिनेश खन्ना ने ब्रॉन्ज जीता। कॉमनवेल्थ गेम्स में बैडमिंटन में भारत का यह पहला पदक था।
- 1978 में प्रकाश पादुकोण ने मेन्स सिंगल्स में पहली बार देश के लिए गोल्ड जीता।
- 2010 में साइना नेहवाल ने वूमेन्स सिंगल्स में पहली बार गोल्ड जीता।
- 2010 में ज्वाला गुट्‌टा और अश्विनी पोनप्पा ने वूमेन्स डबल्स में पहली बार गोल्ड जीता।
- इनके अलावा सैयद मोदी (1982, मेन्स सिंगल्स) और पारुपल्ली कश्यप (2014, मेन्स सिंगल्स) भी कॉमनवेल्थ गेम्स में गोल्ड जीत चुके हैं।

भारत की जीत के नारे लगे
- फाइनल मुकाबले के दौरान भारतीय समर्थक लगातार जीत के नारे लगाते रहे। वे कह रहे थे, 'जीतेगा भाई जीतेगा इंडिया जीतेगा।'
- भारतीय शटलर जब भी कोई प्वाइंट हासिल करते समर्थक चिल्लाते 'इंडिया वन्स मोर।'
- वहीं मलेशिया को प्वाइंट मिलने पर भारत की हौसलाअफजाई के लिए कहते, 'कम ऑन इंडिया।'

इससे पहले: मेन्स टेबल टेनिस टीम इवेंट का गोल्ड अपने नाम किया

-सोमवार को भारत ने मेन्स टेबल टेनिस टीम इवेंट का गोल्ड जीत लिया। खिताबी मुकाबले में उसने नाइजीरिया को 3-0 से हराया।

- पहले सिंगल्स में भारत के अंचत शरत कमल ने नाइजीरिया के बोडे अबियोदुन को 4-11, 11-5, 11-5और 11-9 से हराया।

- मैच के दौरान शरत ने 20 सर्विस प्वाइंट लिए, जबकि अबियोदुन 15 सर्विस प्वाइंट ही ले पाए। दूसरे सिंगल्स में साथियान गणशेखरन ने नाइजीरिया के सेगुन टोरिओला को 10-12, 11-3, 11-3, 11-4 से हराया।

- साथियान ने मैच के दौरान 22 सर्विस प्वाइंट लिए, जबकि सेगुन 12 ही हासिल कर पाए। डबल्स में हरमीत देसाई और साथियान गणशेखरन की जोड़ी ने नाइजीरिया के ओलजुजिडे ओमोटायो और बोडे अबीओदुन की जोड़ी को 11-8, 11-5, 11-3 से हराया।

- मैच के दौरान साथियान और हरमीत ने 16 सर्विस प्वाइंट लिए। वहीं, ओलजुजिडे और बोडे की जोड़ी सिर्फ नौ सर्विस प्वाइंट ही ले सकी।

पदक तालिका: टॉप 5 देश

देशगोल्डसिल्वरब्रॉन्जकुल
ऑस्ट्रेलिया393334106
इंग्लैंड22251663
भारत104519
न्यूजीलैंड89623
दक्षिण अफ्रीका855

18

* यह तालिका भारतीय समयानुसार मंगलवार सुबह 6:30 बजे तक अपडेट है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Others

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×