पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • जालियांवाला बाग़ की घटना शर्मनाक: कैमरन

जालियांवाला बाग़ की घटना शर्मनाक: कैमरन

9 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

ब्रितानी जनरल डायर ने जलियांवाला बाग़ में जारी एक जनसभा में गोली चलाने के आदेश दिए थे.

भारत के दौरे पर आए ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन मुंबई और दिल्ली के बाद अमृतसर पहुंचे जहाँ वह स्वर्ण मंदिर और जलियांवाला बाग़ गए.

जलियांवाला बाग़ में डेविड कैमरन ने मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी.

डेविड कैमरन ने इस मौके पर कहा कि, "यह घटना ब्रितानी इतिहास के लिए एक शर्मनाक बात रही."

इससे पहले अमृतसर हवाई अड्डे पर पंजाब के मुख्यंत्री प्रकाश सिंह बादल ने कैमरन का स्वागत किया.

जब से डेविड कैमरन भारत यात्रा पर हैं तब से कयास लग रहे हैं कि क्या वह वर्ष 1919 में ब्रितानी शासन काल में हुए जलियांवाला बाग़ हत्याकांड के लिए माफ़ी मांगेंगे.

बीबीसी ने इसी मौके पर बात की कुछ ऐसे लोगों से जिनके पुरखे जलियांवाला बाग़ गोलीकांड में शहीद हुए थे.

नंदलाल अरोड़ा, जिनके दादा जलियांवाला बाग़ में मारे गए थे

मेरे पिता उस समय छोटी उम्र के थे और मेरे दादा के साथ उस सभा में गए थे जिसे कांग्रेस ने आयोजित किया था.

उस गोलीबारी में मेरे दादा शहीद हो गए थे और मेरे पिताजी लाशों के ढेर में दब गए थे. शायद मेरे पिताजी इसी वजह से बच सके क्योंकि उनके ऊपर मरे हुए लोगों के शव आ गिरे थे.

हालांकि लाशों के नीचे दबने से मेरे पिताजी की रीढ़ की हड्डी में चोट लगी और वह सारी उम्र उससे परेशान रहे. मेरी दादी मुझे बताया करती थी कि जलियांवाला बाग़ में उस दिन जैसे हर जगह खून ही खून था.

वह कहती थीं कि मंज़र ऐसा था कि जैस वहां बचे लोगों की आँखों से खून टपक रहा था. मेरी दादी इस सदमे के चलते दो दिन मेरे दादाजी की लाश के पास ही बैठी रही.

दादी इस सदमे से बहुत वर्षों के बाद ही उबर सकीं. जाने वाले तो चले गए लेकिन जिनकी वजह से ये हुए उनके लिए मन में नफरत तो है ही.

भूषण बहल, जिनके परिवार के सदस्य गोलीकांड में मारे गए

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री अगर इस बात के लिए माफ़ी मांगते हैं तो जलियांवाला बाग़ में मारे गए लोगों के परिवारवालों को शांति मिलेगी.

मैं जलियांवाला बाग़ शहीद संस्था का अध्यक्ष हूँ और ऐसे न जाने कितने परिवार हैं जो उस हादसे के बाद उबर ही नहीं सके.

क्योंकि डेविड कैमरन पहली बार जलियांवाला बाग़ में गए इसलिए उनकी माफ़ी या श्रद्धांजलि से हमारे ज़ख्मों पर मरहम लग
सकेगा.

वह एक ऐसी घटना थी जिसके लिए जितनी भी शोक संवेदना व्यक्त की जाए काफी नहीं है. हम सभी लोगों को सिर्फ माफ़ी की ही उम्मीद रही है.

हमें किसी और चीज़ या फिर मुआवज़े की दरकार नहीं है.