भक्तों ने वेद-मंत्रों के बीच की मां ब्रह्मचारिणी की पूजा

Buxar News - चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा भक्तों ने किया। यह नवरात्रि में पूजी जाने वाली मां दुर्गा...

Mar 27, 2020, 07:00 AM IST

चैत्र नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा भक्तों ने किया। यह नवरात्रि में पूजी जाने वाली मां दुर्गा का दूसरा स्वरुप हैं। चैत्र नवरात्रि चल रहे हैं, पंडित नरोत्तम द्विवेदी ने बताया कि ब्रह्मचारिणी नाम ब्रह्म ने बना है। ब्रह्म का अर्थ होता है तपस्या और चारिणी का मतलब होता है आचरण करने वाली। इस प्रकार ब्रह्मचारिणी का अर्थ हुआ तप का आचरण करने वाली। ब्रह्मचारिणी मां के दाहिने हाथ में जप करने वाली माला होती है और बाएं हाथ में कमंडल। पौराणिक कथाओं के अनुसार माता ब्रह्मचारिणी ने भगवान शंकर को पति के रूप में पाने के लिए बहुत तपस्या की थी। इसी वजह से उन्हें तपश्चारिणी भी कहते हैं। मान्यता है कि जो भक्त मां ब्रह्मचारिणी देवी का पूजन करने से सिद्धि और विजय की प्राप्ति होती है।

नवरात्र में मां काली की सजी मुर्ती

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना