पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

केंद्र के निर्देश पर सभी जिलों में होगा अब ड्रग डिस्पोजल कमेटी, डीजीपी ने जारी किया आदेश

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

रांची. केंद्र के निर्देश पर प्रत्येक जिले में अब मादक द्रव्यों को नष्ट करने के लिए डिस्पोजल कमेटी होगी। इस संबंध में डीजीपी डीके पांडेय ने आदेश जारी किया है। जिसके तहत ही अब जब्त मादक द्रव्यों का डिस्पोजल हो सकेगा। प्रत्येक जिले में बनने वाले कमेटी के अध्यक्ष जिले के एसपी होंगे। इसके अलावे सदस्य के रूप में डीएसपी मुख्यालय रहेंगे। संबंधित जिले में पदस्थापित अन्य डीएसपी को भी एसपी सदस्य के लिए  नामित कर सकेंगे।

 

मादक द्रव्यों को सही तरह से डिस्पोज करेगी करेगी टीम: वहीं जारी आदेश के अनुसार अपराध अनुसंधान विभाग के लिए डिस्पोजल कमेटी के अध्यक्ष एटीएस के एसपी होंगे। सदस्य के रूप में सीआईडी के दो डीएसपी रहेंगे। जिन्हें एडीजी द्वारा नामित किया जाएगा। जब्त मादक द्रव्यों के डिस्पोजल के लिए एक हाई लेबल कमेटी भी होगी। जिसमें सीआईडी के पुलिस उप महानिरीक्षक या सीआईडी के ही कोई अन्य वरीय पदाधिकारी  अध्यक्ष होंगे। जिन्हें एडीजी द्वारा नामित किया जाएगा। हाई लेबल कमेटी के सदस्य एटीएस के एसपी और संबंधित जिले के एसपी होंगे। अक्सर देखा जाता है कि पुलिस मादक द्रव्यों को पकड़ तो लेती है, लेकिन उनका सही तरीके से डिस्पोजल नहीं हो पाता।

 

मादक द्रव्यों की मात्रा के अनुसार ही कमेटी कर सकेगी अनुशंसा: केंद्र द्वारा जारी आदेश में बताया गया है कि जिला स्तर पर बनी डिस्पोजल कमेटी मादक द्रव्यों की मात्रा के अनुसार ही उसपर अपने निर्देश जारी करेगी। जिसमें पांच किलो तक जब्त हीरोइन, 100 किलो तक हशीश (चरस), 20 किलो तक हशीश तेल, 1000 किलो तक गांजा, दो किलो तक कोकिन, 3000 किलो तक मैनड्रेक्स, 10 एमटी तक अफीम के पौधा और पांच लाख रुपए मूल्य तक अन्य मादक द्रव्यों को नष्ट करने का अधिकार जिला स्तर पर बनी ड्रग डिस्पोजल कमेटी का होगा।

 

नष्ट करने के बाद कमेटी को देना होगा सर्टिफिकेट: मादक द्रव्यों को नष्ट करने के बाद ड्रग डिस्पोजल कमेटी को नष्ट करने का सर्टिफिकेट देना होगा। जिसे कमेटी के तीन सदस्यों द्वारा जारी किया जाएगा। मादक द्रव्यों को नष्ट करने से पहले उसकी पूरा विवरण तैयार करना होगा। जिसकी तीन कॉपी बनाने का निर्देश दिया गया है।

 

ये होगा कमेटी का दायित्व 
- मादक द्रव्यों की जब्ती के बाद बैठक कर आवश्यक कार्रवाई करना। 
- जितने भी मादक द्रव्य के मामले लंबित है उनका निष्पादन करना। 
- जब्त मादक द्रव्यों को डिस्पोजल करने का निर्देश जारी करना।

 

खबरें और भी हैं...