हेलमेट को बोझ नहीं समझें, यह चालकों का जीवन सुरक्षा कवच है

News - लोरेटो कॉन्वेंट स्कूल के सभागार में ‘सड़क सुरक्षा की आवश्यकता’ पर कार्यशाला आयोजित की गई। इसमें सड़क सुरक्षा पर...

Bhaskar News Network

Oct 13, 2019, 07:50 AM IST
Ranchi News - do not consider helmets as a burden it is the driver39s life shield
लोरेटो कॉन्वेंट स्कूल के सभागार में ‘सड़क सुरक्षा की आवश्यकता’ पर कार्यशाला आयोजित की गई। इसमें सड़क सुरक्षा पर काम करने वाली संस्था राइज अप के तत्वावधान में आयोजित कार्यशाला मंे मुख्य वक्ता ऋषभ आनंद ने कहा कि सुरक्षा केवल नारा नहीं, बल्कि जीवन जीने का तरीका है। विश्व में सर्वाधिक दुर्घटनाएं भारत में ही होती हंै। दुर्घटनाओं में 85 प्रतिशत पुरुष व 15 प्रतिशत महिलाएं घायल और जान गंवाते हंै। उन्होंने कहा कि देश में वर्तमान में सड़कों पर सर्वाधिक बाइक दौड़ती है। चालकों को हेलमेट को बोझ नहीं, जीवन का सुरक्षा कवच समझना चाहिए। इसके पहनने से दुर्घटना होने पर चालक के सिर की सुरक्षा होती है। इस दौरान छात्रों को दुर्घटना में हेलमेट से होने वाले बचाव तथा नहीं होने पर होने वाली परेशानियां, सीट बेल्ट के फायदे, हेलमेट का सही चयन, डच रिच थ्योरी का प्रोजेक्टर पर वीडियो भी दिखाया गया। सड़क पर कभी भी हादसा हो सकता है। ऐसे में अपने सपनों को पूरा करने के लिए लोगों को आवश्यक रूप से हेलमेट लगाना चाहिए। उन्होंने कहा कि जीवन होगा, तभी सपनों को पूरा किया जा सकता है। आज का युवा वर्ग बड़ी संख्या में सड़क हादसों में जान गंवा रहा है। जरूरत है सड़क सुरक्षा के महत्व को समझने की। इसलिए स्कूल, कॉलेजों में नियमित सड़क सुरक्षा पर कार्यक्रम आयोजित किए जाने चाहिए। साथ ही पेरेंट्स को बच्चों के साथ सड़क सुरक्षा को लेकर समझाना जरूरी है। मौके पर राजश्री और स्कूल प्रिंसिपल सहित अन्य टीचर्स उपस्थित थे।

Ranchi News - do not consider helmets as a burden it is the driver39s life shield
X
Ranchi News - do not consider helmets as a burden it is the driver39s life shield
Ranchi News - do not consider helmets as a burden it is the driver39s life shield
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना