Hindi News »Lifestyle »Relationships» Doctors Day Special

नेशनल डॉक्टर्स डे : इन बातों से डॉक्टर और मरीज का रिश्ता बनेगा मजबूत

विश्वास डॉक्टर और मरीज के रिश्ते की नींव है। समस्या से लेकर निदान तक का सफर विश्वास की सीढ़ियों से गुजरता है।

dainikbhaskar.com | Last Modified - Jul 01, 2018, 06:42 PM IST

नेशनल डॉक्टर्स डे : इन बातों से डॉक्टर और मरीज का रिश्ता बनेगा मजबूत

लाइफस्टाइल डेस्क. सम्मान, भरोसे और भावनाओं से गुथा हुआ रिश्ता होता है डॉक्टर और मरीज का। जब कभी भी मुसीबत आती है तो हम डॉक्टर पर ही भरोसा करके उस बुरे वक्त से बाहर निकलते हैं। वहीं मरीज के विश्वास के बल पर ही डॉक्टर्स का मनोबल बढ़ता है और अपने काम में सफल होते हैं। जानिए, कुछ ऐसी बातें जो मरीज और डॉक्टर के रिश्ते को मजबूत बना सकती हैं। डॉ. नम्रता बता रहीं हैं इन बाताें के बारे में...
विश्वास

  • विश्वास डॉक्टर और मरीज के रिश्ते की नींव है। समस्या से लेकर निदान तक का सफर विश्वास की सीढ़ियों से गुजरता है। संभव है कि, एक जैसी लगने वाली बीमारी के उपचार के तरीके अलग-अलग हों।
  • ऐसे में बेहद जरूरी है कि, मरीज उपचार के तरीकों को न आंके। विश्वास रखिए की आपकी तबीयत में आए सुधार को देखकर डॉक्टर्स को न सिर्फ खुशी मिलती है, बल्कि उनका मनोबल भी बढ़ता है।

व्यवहार

  • मरीज को जिज्ञासा होती है कि, वह अपनी हर तकलीफ डॉक्टर को बताए व बीमारी के बारे में पूर्ण जानकारी पाए। वहीं डॉक्टर खुशी-खुशी मरीज को सुन ले और उसे कह दे कि ठीक हो जाओगे तो वह आधा दुरुस्त हो जाता है।
  • डॉक्टर मरीज को ठीक करने की हर संभव कोशिश करता है, इसके बाद भी अगर वो सफल नहीं हो पाता तो इसके लिए डॉक्टर से बुरा व्यवहार करना गलत है।

इंटरनेट ज्ञान

  • ज्यादातर मरीज आजकल डॉक्टर को दिखाने से पहले इंटरनेट पर बीमारी के बारे में पता करके जाते हैं और डॉक्टर के डायग्नोस के बाद इंटरनेट और डॉक्टर के बयान की तुलना करते हैं।
  • वे डॉक्टर की लिखी दवाइयों को भी खाने से पहले इंटरनेट पर देखते हैं और उनके अच्छेबुरे प्रभाव जानकर दवाई लेना खुद ही बंद कर देते हैं। मरीजों का यह व्यवहार डॉक्टर को परेशान करता है।

पैसा

  • किसी भी रिश्ते में उस समय खटास आ जाती है, जब वह रुपए-पैसों की सीमा में आ जाता है। ऐसा ही प्रभाव डॉक्टर और मरीजों के रिश्ते में भी देखने को मिलता है।
  • तकनीक बढ़ने के साथ वर्तमान में स्वास्थ्य सेवाएं भी महंगी हो गई हैं, मरीजों को ये बात समझनी चाहिए। किसी भी बीमारी के इलाज के दौरान मरीज को अपनी आर्थिक स्थिति जानकर व डॉक्टर को मरीज की स्थिति देखकर फीस और खर्च के मामले में बीच का रास्ता निकालना चाहिए।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Relationships

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×