अनुमंडल अस्पताल में सेनेटाइजर किट नहीं रहने से डॉक्टरों में खौफ

Nawada News - रजौली अनुमंडल अस्पताल में सेनेटाइजर किट नहीं रहने से चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों में हड़कंप की स्थिति है।...

Mar 27, 2020, 08:12 AM IST

रजौली अनुमंडल अस्पताल में सेनेटाइजर किट नहीं रहने से चिकित्सकों और स्वास्थ्य कर्मियों में हड़कंप की स्थिति है। बुधवार की रात्रि ड्यूटी में रहे चिकित्सक सतीश चन्द्र सिन्हा व डॉ दिलीप कुमार ने बताया कि रजौली बिहार व झारखंड का बॉर्डर क्षेत्र होने के कारण बराबर कोरोना वायरस को लेकर बाहर प्रदेशों से आने वाले लोगों का जांच हेतु अनुमंडल अस्पताल लाया जाता है । लेकिन अस्पताल के स्टोर में सैनिटाइजर कीट रहने के बाद भी चिकित्सकों व एएनएम को नहीं दिया जाता है। एएनएम को मास्क तक की सुविधा नहीं दी गई है। कर्मियों ने बताया कि स्टोर कीपर के नहीं रहने के कारण ऐसा होता है। अस्पताल प्रबंधक इरशाद अहमद ने बताया कि अभी स्टोर कीपर को रात्री में भी ड्यूटी करना चाहिए। इसकी जानकारी उच्च पदाधिकारियों को दे दिया गया है।

लॉक डाउन के दौरान बाजार में जमाखोरों के द्वारा कालाबाजारी जारी

रजौली प्रखंड क्षेत्र में लॉकडाउन होते हीं जहां लोगों की आमदनी पर बुरा प्रभाव पड़ रहा है। वहीं बाजारों में दुकानदारों के द्वारा खाद्य पदार्थों की कालाबाजारी भी शुरू हो गई है। लोगों को खाने-पीने के सामान दुकानों से ऊंची कीमत पर खरीदनी पड़ रही है। इससे लोगों में हाहाकार मचा मचा हुआ है।जानकारी के मुताबिक आलू और प्याज के दामों में दुगुनी बढ़ोतरी होने के कारण लोग सब्जी खरीदने में परहेज करने लगे हैं।अन्य किराना सा मानों के दामों में भी बेतहाशा वृद्धि शुरू हो गई है। लॉकडाउन के शुरुआती दूसरे दिन से हीं समानों के दाम बढ़ने से लोग भविष्य को लेकर फिक्रमंद होने लगे हैं।ज्यादातर दुकानें बंद रहती है। और जो भी दुकानें खुली हैं।वहां भी दुकानदार ट्रांसपोर्टेशन बंद का हवाला देकर सामान ऊंची कीमत पर बेच रहे हैं।आटा जो 27 रुपये प्रति किलो था ,आलू 17 रुपये प्रति किलो मिल रहा था।वह अचानक 40 रुपये प्रति किलो की हो गई। चावल जो 25 रुपये किलो मिल रहा था वह 50 रुपये किलो तक इन जमाखोर दुकानदारों के द्वारा बेचा जा रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना