विज्ञापन

5 महीने के बच्चे की आंख में हो रही थी खुजली, मां ने देखा तो लगा आंख में कुछ चला गया, पर निकालने की कोशिश रही नाकाम

Dainik Bhaskar

Mar 17, 2019, 06:38 PM IST

डॉक्टर आंख देखते ही रह गया शॉक्ड, कहा- घर में पले डॉगी के चलते आई ये आफत

  • comment

शान्शी. चीन में पांच साल के एक बच्चे की आंखों में कई दिनों से खुजली हो रही थी और बच्चा बहुत बेचैन था। मां ने जब आंखें देखीं तो लगा कि आंख में कुछ चला गया है, पर उसे निकालने की कोशिश में नाकाम रही। जब डॉक्टर को दिखाया तो उसके आंखों की हालत देखकर शॉक्ड रह गया। उसकी आंख में 11 लाइव वर्म्स मौजूद थे, जिन्हें करीब 21 मिनट की मशक्कत के बाद निकाला जा सका। डॉक्टर ने बताया कि ये नेमाटोड इंफेक्शन के चलते है, जो डॉगी से फैलता है।

आंख से निकाले 11 जिंदा वर्म्स
- मामला चीन के शान्शी प्रोविन्स का है, जहां 5 महीने का बच्चे डॉन्ग डॉन्ग की आंख में खुजली हो रही थी और आंखों के अंदर कुछ तैरता नजर भी आ रहा था।
- बच्चे की मां उसे शियान नंबर 1 हॉस्पिटल में लेकर गई तो डॉक्टर्स उसकी स्थिति देखकर शॉक्ड रह गए। उसकी आंखों में 11 जिंदा वर्म तैर रहे थे।
- करीब 21 मिनट के प्रोसीजर में इन 11 वर्म्स को बच्चे का आंख से निकाला गया। इस पूरे प्रोसीजर का दिल दहला देने वाला वीडिया सामने आया है।
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इंफेक्शन के बारे में ज्यादा जानकारी जुटाने के लिए इन पैरासाइट्स को जांच के लिए लैब में भेजा गया है। वहीं, बच्चे का इलाज जारी है।
- डॉक्टर ने बताया कि बच्चा गंभीर नेमाटोड इंफेक्शन से जूझ रहा है। इस इंफेक्शन से जूझ रहे किसी पालतू डॉगी के कॉन्टैक्ट में आने के चलते ये हुआ।
- इसके बाद डॉन्ग की मां ने डॉगी के सम्पर्क में आने की बात साफ की। उसने बताया कि बच्चा पड़ोसी के पालतू डॉगी के साथ खेलता था।

जानें नेमाटोड इंफेक्शन के बारे में
- डॉक्टर्स का मानना है कि ये वर्म थेलाजिया कैलिपैइडा स्पेशीज हैं। इस पैरासिटिक नेमाटोड इंफेक्शन का पता चीन में पहली बार 100 साल पहले चला था। यूरोप और एशिया में नेमाटोड इंफेक्शन के चलते ही ये वर्म्स होते हैं, जो इंफेक्शन होने पर कुत्ते, बिल्लियां और इंसान की आंखों में पाए जाते हैं। ये वर्म्स पैरासाइट्स हैं, जो जिंदा रहने और खाने पीने के लिए इंसान का इस्तेमाल करते हैं।

X
COMMENT
Astrology
विज्ञापन
विज्ञापन