बरसाती पानी की निकासी के लिए बनाए थे नाले, लोगों ने किए कब्जे

Panchkula Bhaskar News - पिंजौर में अपने 15 वर्षों के कार्यकाल में नगरपालिका और 10 वर्ष के कार्यकाल में नगर निगम अपनी सरकारी जमीन से अतिक्रमण...

Jan 19, 2020, 07:26 AM IST
Pinjore News - drains were constructed for drainage of rain water people took possession
पिंजौर में अपने 15 वर्षों के कार्यकाल में नगरपालिका और 10 वर्ष के कार्यकाल में नगर निगम अपनी सरकारी जमीन से अतिक्रमण नहीं हटवा पाया। इनकी अतिक्रमण पर अनदेखी के कारण आज शहर में करोड़ों की सरकारी जमीन को कुछ भूमाफियां बेच गए जबकि प्रशासन आंखें मूंदे बैठा हुआ है।

सरकारी नालों की जमीन पर सबसे ज्यादा कब्जे: पिंजौर नगर निगम क्षेत्र में सबसे ज्यादा कब्जे निगम की सरकारी नालों की जमीन पर हुए है। 1995 में नगरपालिका से पहले शहर में बरसाती पानी निकासी के करीब आधा दर्जन से ज्यादा बड़े नाले होते थे। जिनकी चौड़ाई लगभग 20 फीट से लेकर करीब 60 फीट से ज्यादा होती थी। नगरपालिका बनने के बाद शहर में कई जगह पर कालोनियां विकसित होने लगी, इससे जमीन की कीमत बढ़ने पर कुछ भूमाफिया द्वारा प्रशासन द्वारा कोई कार्यवाई न करने पर जितने भी बरसाती नालों की सरकारी जमीन थी। उसके आसपास कब्जे करके प्लाट काटकर बेचने शुरू कर दिए। जिससे जिन नालों की चौड़ाई करीब 40 से 50 फीट थी वो करीब 10 से 15 फीट ही रह गई। शहर में जितने भी नालों की सरकारी जमीन थी। उसके आसपास कब्जे करके प्लाट कट गए।

निगम की जमीन पर ही हुए नक्शे पास : हैरानी की बात है कि शहर में जहां पर भी नालों की सरकारी जमीन पर मकान बन गए उनके नगर निगम ने नक्शे भी पास करके उन्हें हर सुविधा उपलब्ध करवा दी गई। सरकारी जमीन पर मकान बनने के बाद नगर निगम द्वारा उस पर कोई भी कार्यवाई नहीं की गई। कई जगह नालों की सरकारी जमीन पर दुकानें तक बन गईं जिसमें वार्ड 3 शिव कालोनी में टावर के पास और विश्वकर्मा काॅलोनी में भी नाले की जमीन पर ही दुकानें बन गई। नालों की सरकारी जमीन पर मकानों के नक्शे पास होने से नगर निगम के अधिकारियों की कार्यशैली पर भी सवाल खड़े हो गए है।

मंदिर व पीर मजार की आड़ में नाले की जमीन पर कब्जा: वार्ड 3 धर्मपुर कालोनी में खसरा नंबर 91 में सरकारी नाले की करीब दो बीघा से ज्यादा नाले की जमीन है जहां पर नाले को ही खत्म करके वहां पर प्लाट काटकर बेच दिए गए, आगे जाकर इस नाले की चौड़ाई जहां पर करीब 20 से 40 फीट थी वहां पर कहीं पर 10 फीट तो कहीं पर करीब 5 फीट ही रह गई। इसी नाले पर आगे टावर के पास एक पीर मजार बना दी गई और आगे एक हनुमान मंदिर बना दिया गया। इन धार्मिक स्थलों की आड़ में नाले की जमीन के प्लाट भी बेच दिए गए।

शिव कालोनी मंदिर की आड़ में नाले की जमीन पर कब्जा।

नाले की जमीन पर ही बनी दुकानें



जल्द होगी कार्यवाई: ईओ जरनैल सिंह

इस बारे में बात करने पर नगर निगम के ईओ जरनैल सिंह ने बताया कि वो इसके बारे में पूरी जानकारी एकत्रित कर रहे है उसके बाद वो जल्द ही इस सख्ताई से कार्यवाई करेगें।

Pinjore News - drains were constructed for drainage of rain water people took possession
X
Pinjore News - drains were constructed for drainage of rain water people took possession
Pinjore News - drains were constructed for drainage of rain water people took possession
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना