विज्ञापन

हर सोमवार करें ये एक खास छोटा सा उपाय, भाग्य की हर रुकावट होती है दूर

Dainik Bhaskar

Apr 25, 2018, 05:30 PM IST

अगर ज्योतिषीय सलाह नहीं मिल पाई है, वे भी कुछ उपाय तो ऐसे हैं जो बिना किसी ज्योतिषीय सलाह के कर सकते हैं।

how to remove bad effects of kundali by single worship
  • comment

रिलिजन डेस्क. ग्रहों के दोष और उनके बुरे प्रभाव के कारण इंसान के जीवन में कई रुकावटें आती हैं। कई बार ऐसा होता है कि बनते हुए काम ऐनवक्त पर बिगड़ जाते हैं। ऐसे में ज्योतिष कई तरह के अलग-अलग उपाय बताता है। अगर ज्योतिषीय सलाह नहीं मिल पाई है, वे भी कुछ उपाय तो ऐसे हैं जो बिना किसी ज्योतिषीय सलाह के कर सकते हैं। ऐसे उपायों से कोई नुकसान नहीं होता है। ऐसा ही एक उपाय है शिवलिंग पर चावल अर्पित करने का।

चावल को अक्षत भी कहा जाता है और अक्षत का अर्थ है अखंडित। जो टूटा हुआ न हो वही अक्षत यानि चावल माना गया है। शास्त्रों के अनुसार यह पूर्णता का प्रतीक है। इसी वजह से सभी प्रकार के पूजन कर्म में भगवान को चावल अर्पित करना अनिवार्य माना गया है। इसके बिना पूजा पूर्ण नहीं मानी जाती है। चावल चढ़ाने से भगवान प्रसन्न होते हैं और भक्त को देवी-देवताओं की कृपा प्राप्त होती है।

धन संबंधी समस्याओं को दूर करने के लिए ज्योतिष शास्त्र में कई सटीक उपाय बताए गए हैं। जिन्हें अपनाने से सभी प्रकार के ग्रह दोष दूर होते हैं और आय बढऩे में आ रही समस्त रुकावटें दूर हो जाती हैं। यदि किसी ग्रह दोष के कारण आपकी आय बढऩे में समस्याएं उत्पन्न हो रही हैं तो संबंधित ग्रह का उपचार करें।

इसके साथ ही यह उपाय अपनाएं

हर सोमवार शिवलिंग का विधिवत पूजन करें। पूजन में बैठने से पूर्व अपने पास करीब आधा किलो या एक किलो चावल का ढेर लेकर बैठें। पूजा पूर्ण होने के बाद अक्षत के ढेर से एक मुठ्ठी चावल लेकर शिवजी को अर्पित करें। तत्पश्चात शेष बचे चावल को मंदिर में दान कर दें या किसी जरूरतमंद व्यक्ति को दे दें। ऐसा हर सोमवार को करें। इस उपाय को अपनाने से कुछ ही समय में सकारात्मक परिणाम प्राप्त होने लगेंगे। ध्यान रहे इस दौरान किसी भी प्रकार का अधार्मिक या अनैतिक कर्म न करें। अन्यथा उपाय का प्रभाव निष्फल हो जाएगा।

how to remove bad effects of kundali by single worship
  • comment
X
how to remove bad effects of kundali by single worship
how to remove bad effects of kundali by single worship
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें