पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

13 साल की उम्र में किया इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू, 2015 में हॉकी खेलना शुरू किया; वर्ल्ड कप में सिल्वर मेडल जीता

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

 

  • एलिना ने आयरलैंड के लिए 25 वनडे में 155 रन बनाए
  • गेंदबाजी में उन्होंने वनडे और टी-20 मिलाकर 24 विकेट लिए

डबलिन. आयरलैंड की टीम ने रविवार को खत्म हुए महिला हॉकी वर्ल्ड कप में सिल्वर मेडल जीता। इस टीम में एक ऐसी खिलाड़ी शामिल थी जो आयरलैंड के लिए 40 इंटरनेशनल क्रिकेट मैच खेल चुकी थीं। वह खिलाड़ी हैं एलिना टाइस। एलिना ने साल 2011 में 13 साल 277 दिन की उम्र में आयरलैंड के लिए इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था। उस समय वे महिला-पुरुष मिलाकर सबसे कम उम्र की इंटरनेशनल क्रिकेटर थीं। बाद में उन्हीं के देश की गैबी लेविस ने उनका रिकॉर्ड तोड़ा था। एलिना ने चार साल तक इंटरनेशनल क्रिकेट खेला।
 
बेहतर भविष्य के लिए चुना हॉकी: 2015 में उन्होंने बेहतर भविष्य के लिए खेल बदला और हॉकी को चुना। 18वें जन्मदिन से दो सप्ताह पहले वे आयरलैंड की नेशनल हॉकी टीम के लिए चुन ली गईं। आयरलैंड ने 16 साल बाद हॉकी वर्ल्ड कप के लिए क्वालिफाई किया और सिल्वर मेडल जीत लिया। इससे आयरलैंड की टीम का रैंकिंग में टॉप-10 में आना भी तय हो गया है। 

 

बचपन में बेसबॉल खेलती थीं: हैम्पशायर के बैनिंग्सटोक में जन्मीं एलिना चार साल की उम्र में पैरेंट्स के साथ अमेरिका के इंडियानापोलिस चली गईं। वहां बेसबॉल से उनका परिचय हुआ। छह साल की उम्र में वे ऑस्ट्रिया के वियना शहर चली गईं। वहां एलिना क्रिकेट से जुड़ीं। नौ साल की उम्र में वह आयरलैंड लौटीं और स्कूल की क्रिकेट टीम में शामिल हो गई। उसी साल वे स्कूल की हॉकी टीम में भी चुनी गईं। 13 साल की उम्र तक वे फुटबॉल, रग्बी और हॉर्स राइडिंग की भी अच्छी खिलाड़ी बन चुकी थीं। इसके बाद उनका चयन आयरलैंड की क्रिकेट टीम में हो गया। 

खबरें और भी हैं...