• Hindi News
  • Bihar
  • Araria
  • Forbesganj News everyone from outside will be investigated such people will not meet anyone before the report comes

बाहर से आए हर व्यक्ति की जांच होगी, रिपोर्ट आने से पहले ऐसे लोग किसी से नहीं मिलेंगे

Araria News - डीएम और सिविल सर्जन को पालन कराने की मिली जिम्मेदारी लॉकडाउन का आदेश जारी होने के बाद लोगों को अपने-अपने घर में...

Mar 27, 2020, 07:01 AM IST
डीएम और सिविल सर्जन को पालन कराने की मिली जिम्मेदारी

लॉकडाउन का आदेश जारी होने के बाद लोगों को अपने-अपने घर में रहने की अपील का असर दिखने लगा है। इस दौरान गुरुवार को आपात सेवाओं व आवश्यक वस्तुओं के प्रतिष्ठानों को छोड़ अन्य दुकानें बंद थीं। जहां ऑटो रिक्शा, निजी वाहनों समेत पब्लिक ट्रांसपोर्ट ठप रहा। सिर्फ आवश्यक वस्तुओं व आपात सेवा वाले वाहनों की ही आवाजाही रही। दूसरी ओर लॉकडाउन के मद्देनजर पुलिस-प्रशासन ने पूरी तरह कमान संभाल रखा है। जहां विभिन्न मार्गों, इलाकों में एहतियात के तौर पर प्रचार-प्रसार व गश्ती जारी है। जबकि शहर के तकरीबन सभी चौक- चौराहों पर पुलिस पदाधिकारियों व जवानों को तैनात किया गया है। उक्त तैनाती दो शिफ्ट में किया गया है। इस दौरान प्रशासन द्वारा लोगों को अत्यंत आवश्यक व आपात कार्य होने की स्थिति में ही घर से बाहर निकलने का निर्देश जारी किया गया है। अन्यथा घर में ही रहने की सलाह दी गई है।

इधर, लॉकडाउन के निर्देशों का उल्लंघन करने वालों के विरुद्ध आईपीसी की धारा 269 व 188 के तहत कार्रवाई किए जाने की जानकारी दी गई है। उक्त धारा के अंतर्गत छह महीने की कैद या जुर्माने वसूलने या फिर एक साथ दोनों सजा का प्रावधान है। हालांकि सरकार द्वारा आपात सेवा व आवश्यक वस्तुओं के प्रतिष्ठानों को इस प्रतिबंध के दायरे से अलग रखा गया है। साथ ही शहर के कुछ जगहों पर पुलिस द्वारा बैरिकेडिंग की गई है। सड़कों पर आवाजाही करने वालों से सख्ती से पूछताछ करते हुए रोड पर बेवजह नहीं घूमने का अनुरोध किया जा रहा है।

सड़कों पर चलाया सघन वाहन जांच अभियान

अररिया। देश भर में लॉकडाउन है। इसके बावजूद लोग सरकारी निर्देशों का उल्लंघन कर न सिर्फ सड़क पर निकल रहे हैं, बल्कि बाइक भी चला रहे हैं। डीएम के निर्देश पर और परिवहन विभाग के आदेश के आलोक में डीटीओ सबल कुमार सख्त हो गए हैं। 21 दिनों के लॉकडाउन के दूसरे दिन डीटीओ खुद सड़क पर उतर गए और बाइक चलाने वालों के खिलाफ कार्रवाई करने लगे। शहर के कई ऐसे मार्गों पर सघन जांच अभियान चलाया जो शहर से गांव की ओर जाती है।

अगल कमरें में रहे बाहर से आए हुए लोग

स्वास्थ्य समिति ने कहा है कि ऐसे संदिग्ध व्यक्ति को अपने घर में अपने परिवार से अलग हवादार कमरे में रहना चाहिए। जिसके साथ बाथरूम और टॉयलेट हो। अगर, परिवार के अन्य सदस्यों को भी उसी कमरे में रहने की मजबूरी हाे तो पीड़ित व्यक्ति से हर समय एक मीटर की दूरी बनाये रखना जरूरी है। पीड़ित व्यक्तियों से बड़े बुजुर्ग, गर्भवती महिलाएं, बच्चे व हृदय रोगी, निमोनिया, दमा, मधुमेह, किडनी, हाई ब्लडप्रेशर आदि के मरीज को बिल्कुल अलग रहना चाहिए। इसके अलावा पीड़ित मरीजों को निरंतर मास्क का उपयोग करना है और प्रत्येक छह से आठ घंटे पर मास्क बदलकर पुराने मास्क नष्ट कर देना है। निर्देश के अनुसार ऐसे व्यक्ति साफ-सफाई पर पूर्ण ध्यान देते हुए निरंतर अपने हाथों को साबुन, हैंडवॉश या अल्कोहल युक्त सैनिटाइजर से साफ करते रहें। संदिग्ध व्यक्ति के इस्तेमाल कपड़े को परिवार के अन्य कपड़ों से अलग डिटर्जेंट से साफ करने के बाद सुखाकर ही उपयोग में लाया जाना चाहिए।

फारबिसगंज से गुजरने वाली वीरान हाईवे।

भास्कर न्यूज। अररिया

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग लगातार दिशा-निर्देश जारी कर रहा है। इसी कड़ी में राज्य स्वास्थ्य समिति बिहार ने वायरस से बचाव के लिए और होम क्वारेंटाइन संबंधित दिशा-निर्देश जारी किया। राज्य स्वास्थ्य समिति के कार्यपालक निदेशक मनाेज कुमार ने इस निर्देशों के पालन कराने की जिम्मेदारी डीएम और सिविल सर्जन को दी है। समिति ने स्पष्ट किया है कि यदि कोई व्यक्ति भारत के बाहर से आया हो या फिर पिछले 14 दिनों में राज्य के बाहर से, ऐसे क्षेत्रों से वापस आएं हैं तो ऐसे व्यक्तियों के लिए 14 दिनों के लिए होम क्वारेंटाइन में रहना श्रेयस्कर है। विभाग ने होम क्वारेंटाइन से संबंधित क्या करना है अौर क्या नहीं करना है मुद्दे को लेकर निर्देश जारी किया। समिति ने स्पष्ट किया है कि होम क्वारेंटाइन में रहने की स्थिति में यह अवधि 14 दिनों की होगी और संदिग्ध व्यक्ति का लेबोरेटरी जांच के लिए भेजे गए नमूने के निगेटिव घोषित होने तक की होगी।

क्या नहीं करना है

बाहर नहीं निकलें, न ही भीड़-भाड़ वाली जगह, किसी धार्मिक स्थल, शादी-विवाह, शोक सभा, श्राद्ध कार्यक्रम आदि में शामिल नहीं हों और न ही अपने परिवार व आसपास के लोगों से मिलें। संदिग्ध व्यक्ति घर के किसी ऐसे अन्य सामग्री को स्पर्श नहीं करें, ना ही घर के किसी को छुएं ताकि कोई संक्रमित ना हो जाये। इसके अलावा घरेलू सामग्री यथा बर्तन, कपड़े, बेड आदि घर के किसी दूसरे सदस्य के साथ बिल्कुल ही साझा नहीं करें। संदिग्ध व्यक्ति को गंदे कपड़े का उपयोग नहीं करना है।

लॉकडाउन का उल्लंघन करने वालों पर धारा 269 और 188 के तहत की जाएगी कार्रवाई

अररिया में वाहन की जांच करते परिवहन कर्मी व अन्य।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना