टेक

--Advertisement--

फेसबुक ने माना- यूजर के कीबोर्ड और माउस के मूवमेंट पर रखते हैं नजर, फोन की बैटरी की भी जानकारी

अमेरिकी सीनेटर्स को जवाब देते हुए मार्क जकरबर्ग ने भी ये बात मानी थी कि उनकी कंपनी यूजर्स का डेटा कलेक्ट करती है।

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2018, 12:43 PM IST
facebook admits it tracks users mouse movement and all the information

गैजेट डेस्क। कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक विवाद के बाद एक बार फिर से फेसबुक ने यूजर्स के डेटा की जानकारी होने की बात कबूल की है। फेसबुक ने कबूल किया है कि वो यूजर की निजी जानकारी, पसंद-नापसंद जानने के लिए उसके कंप्यूटर की -बोर्ड और माउस के मूवमेंट तक पर नजर रखता है। इतना ही नहीं अगर यूजर मोबाइल के जरिए फेसबुक लॉगइन कर रहे हैं, तो उस डिवाइस के बैटरी लेवल तक की जानकारी कंपनी को रहती है। इस बात की जानकारी फेसबुक ने 454 पन्नों में दिए 2 हजार सवालों के जवाब देते हुए दी।

यूजर किस तरह का कंटेंट देख रहा है, पता चलता है

- फेसबुक ने अपने जवाब देते हुए इस बात की जानकारी दी है कि वो यूजर के पर्सनल डेटा समेत कई बातों की जानकारी रखता है। अगर कंप्यूटर पर फेसबुक लॉगइन है, तो माउस के हर क्लिक और की-बोर्ड के हर इस्तेमाल की खबर कंपनी को रहती है।
- इस जानकारी से कंपनी पता लगाती है कि यूजर किस तरह के कंटेंट पर कितनी देर तक रुक रहा है। इसी के हिसाब से फिर यूजर को एडवर्टाइज दिखाया जाता है।

कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक विवाद के बाद पूछताछ

- साल की शुरुआत में एक चैनल ने अपने स्टिंग ऑपरेशन में खुलासा किया था कि ब्रिटिश फर्म कैंब्रिज एनालिटिका ने 2016 के अमेरिकी राष्ट्रपति चुनावों में डोनाल्ड ट्रंप को फायदा पहुंचाने के लिए फेसबुक के 5 करोड़ से ज्यादा यूजर्स का डेटा उनकी परमिशन के बिना इस्तेमाल किया।
- इस खुलासे के बाद फेसबुक की प्राइवेसी पॉलिसी पर भी सवाल खड़े हो गए थे। इसके बाद अमेरिकी सीनेटर्स ने फेसबुक के फाउंडर और सीईओ मार्क जकरबर्ग से सवाल-जवाब भी किए थे।
- बाकी सवालों के जवाब देने के लिए जकरबर्ग को समय दिया गया था। इसपर फेसबुक की तरफ से 454 पन्नों में इन सभी सवालों के जवाब दिए गए हैं।

इन 5 तरीकों से फेसबुक रखता है हर यूजर पर नजर

1. डिवाइस इन्फॉर्मेशन : आप जिस कम्प्यूटर, मोबाइल या डिवाइस से फेसबुक लॉगइन करते हैं, उसकी जानकारी फेसबुक को रहती है। जैसे- डिवाइस में कितना स्टोरेज बचा है, कौन-कौन से फोटो हैं, किसके नंबर सेव हैं।
2. एप इन्फॉर्मेशन : फेसबुक को ये भी पता रहता है कि यूजर डिवाइस में कौन-कौन से और एप मौजूद हैं। यूजर किस एप को कितना समय देता है। इससे मिलने वाली जानकारी को वो डेटाबेस में यूजर प्रोफाइल के साथ सेव कर लेता है।

3. डिवाइस कनेक्शन : फेसबुक को पता रहता है कि यूजर किस नेटवर्क का इस्तेमाल कर रहा है या कौन सा वाई-फाई चला रहा है। फेसबुक डिवाइस जीपीएस पर भी नजर रखता है, जिससे उसे यूजर की लोकेशन मिलती रहे।

4. बैट्री लेवल : यूजर की डिवाइस के बैट्री लेवल की भी फेसबुक निगरानी करता है। इससे वो पता लगाता है कि फेसबुक एप यूजर के डिवाइस की ज्यादा बैट्री तो नहीं ले रहा है। उस हिसाब से एप को अपडेट करता है।

5. कैमरा इन्फॉर्मेशन : फेसबुक ने कई बार नकारने के बाद अब कैमरा और माइक्रोफोन पर नजर रखने की बात को कबूल लिया है। उस हिसाब से वो यूजर को फेसबुक एप पर फिल्टर और अन्य फीचर सजेस्ट करता है।

जकरबर्ग ने माना था, फेसबुक यूजर का डेटा लेते हैं

- फेसबुक के सीईओ मार्क जकरबर्ग कैंब्रिज एनालिटिका डेटा लीक का मामला सामने आने के बाद 10 अप्रैल को अमेरिकी सीनेटर्स के सामने पेश हुए थे। उस वक्त सीनेटर्स ने करीब 5 घंटे तक जकरबर्ग से पूछताछ की थी।
- उस समय जकरबर्ग ने इस बात को माना था कि फेसबुक यूजर्स का डेटा कंपनी लेती है। हालांकि उन्होंने ये भी कहा था कि दूसरे ऐप यूज करने पर कंपनी उनका डेटा नहीं लेती।
- जकरबर्ग ने एक सवाल के जवाब में कहा था कि फेसबुक आमतौर पर दो तरह के डेटा कलेक्ट करता है। पहला तो वो जो यूजर्स खुद फेसबुक को देते हैं और दूसरा डेटा एडवर्टाइजिंग के लिए कलेक्ट किया जाता है।
- इस तरह का डेटा यूजर्स का बिहेवियर होता है, ताकि उन्हें सही एडवर्टाइज दिखाए जा सके।

facebook admits it tracks users mouse movement and all the information
X
facebook admits it tracks users mouse movement and all the information
facebook admits it tracks users mouse movement and all the information
Click to listen..