Hindi News »Lifestyle »Tech» Facebook Apologizes For Its Feature

इंडोनेशिया के भूकम्प में 130 लोगों की मौत पर फेसबुक ने दिखाए थे जश्न वाले गुब्बारे, अब मांगनी पड़ी माफी

फेसबुक ने इंडोनेशिया में इस फीचर पर फिलहाल रोक लगा दी है।

DainikBhaskar.com | Last Modified - Aug 09, 2018, 06:46 PM IST

  • इंडोनेशिया के भूकम्प में 130 लोगों की मौत पर फेसबुक ने दिखाए थे जश्न वाले गुब्बारे, अब मांगनी पड़ी माफी
    +2और स्लाइड देखें

    गैजेट डेस्क. फेसबुक ने बुधवार को अपनी एक गलती के लिए माफी मांग ली है। इंडोनेशिया में आए घातक भूकंप के दौरान भूकंप से संबंधित जानकारी फेसबुक पर पोस्ट करने पर यूजर्स के संदेश गुब्बारे और कंफेटी के साथ दिखाई दिए थे। इस मामले की शिकायत मिलने के बाद फेसबुक ने बयान जारी कर माफी मांग ली है। ऐसे गुब्बारे और कंफेटी फेसबुक जश्न या शुभकामना संदेश के साथ दिखाता है।

    Selamat शब्द के इस्तेमाल पर दिखाए गए थे गुब्बारे : गौरतलब है कि हाल ही में इंडोनेशिया में आए 6.9 तीव्रता वाले भूकंप में करीब 130 लोगों की मौत हो गई और हजारों लोग बेघर हो गए थे। भूकंप की जानकारी शेयर करने के दौरान बहुत सारे इंडोनेशियाई लोगों ने 'selamat' शब्द का इस्तेमाल किया था। इस शब्द का मतलब कुछ-कुछ 'safe', 'unhurt' और 'congratulations' के जैसे ही होता है। फेसबुक के फीचर ने ऐसे कमेंट्स को दूसरे अर्थ में ले लिया और कमेंट्स के साथ ऑटोमैटिकली जश्न मनाने वाले एनिमेशन भेजने लगा।

    फेसबुक प्रवक्ता ने व्यक्त किया अफसोस : इसके बाद फेसबुक की प्रवक्ता लिसा स्ट्रैटन ने एक न्यूज वेबसाइट से अफसोस है व्यक्त करते हुए कहा कि इस तरह के दुर्भाग्यपूर्ण समय में ऐसे एनिमेशन दिखाने के लिए हम माफी मांगते हैं। उन्होंने कहा कि हमारी पूरी संवेदनाएं भूकंप से प्रभावित हुए लोगों के साथ हैं। लिसा ने बताया कि स्थानीय स्तर पर इस फीचर को फिलहाल रोक दिया गया है।

  • इंडोनेशिया के भूकम्प में 130 लोगों की मौत पर फेसबुक ने दिखाए थे जश्न वाले गुब्बारे, अब मांगनी पड़ी माफी
    +2और स्लाइड देखें
  • इंडोनेशिया के भूकम्प में 130 लोगों की मौत पर फेसबुक ने दिखाए थे जश्न वाले गुब्बारे, अब मांगनी पड़ी माफी
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Tech

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×