--Advertisement--

23 से शुरू होंगे चातुर्मास और 27 जुलाई से सावन, 4 महीने भगवान शिव करेंगे सृष्टि का संचालन

श्रावण मास भगवान शिव की भक्ति का समय है। इस मास में अनेक व्रत और त्योहार भी आते हैं।

Danik Bhaskar | Jul 15, 2018, 03:04 PM IST
इस बार 23 जुलाई, सोमवार को देवशय इस बार 23 जुलाई, सोमवार को देवशय

रिलिजन डेस्क. इस बार 23 जुलाई, सोमवार को देवशयनी एकादशी है और इसी दिन से चातुर्मास भी शुरू होंगे। इसके बाद 27 जुलाई से श्रावण मास भी शुरू हो जाएगा। श्रावण का पहला सोमवार 30 जुलाई को और पहला प्रदोष 9 अगस्त को होगा। ये दोनों ही दिन शिव पूजा के लिए खास माने जाते हैं। भोपाल के पं. भंवरलाल शर्मा के अनुसार, देवशयनी एकादशी से चार माह तक विवाह व अन्य शुभ कार्य नहीं होंगे। शास्त्रों के अनुसार भगवान विष्णु इस एकादशी से चार माह तक क्षीर सागर में विश्राम करते हैं। इस दौरान भगवान शिव सृष्टि का संचालन करते हैं। श्रावण मास में उनकी विशेष पूजा का विधान है।
श्रावण में कब-कब हैं पूजा और व्रत की खास तिथियां?
श्रावण सोमवार- पहला 30 जुलाई, दूसरा 6, तीसरा 13 व चौथा 20 अगस्त को रहेगा।
प्रदोष व्रत- पहला 9 व दूसरा 23 अगस्त को।
पुष्य नक्षत्र- 10 अगस्त को पुष्य नक्षत्र रहेगा।
मंगला गौरी व्रत व पूजन- 31 जुलाई
मोना पंचमी- 3 अगस्त
कामिका एकादशी- 9 अगस्त
हरियाली अमावस्या- 11 अगस्त
सिंधारा दोज- 13 अगस्त
नाग पंचमी- 15 अगस्त
कल्कि अवतार दिवस- 16 अगस्त
संत तुलसीदास जयंती- 17 अगस्त
पुत्रदा एकादशी- 22 अगस्त
व्रत पूर्णिमा- 25 अगस्त
रक्षाबंधन- 26 अगस्त