--Advertisement--

फुटबॉल वर्ल्ड कप में आज का अहम मुकाबला: कोस्टारिका के सामने सर्बिया की चुनौती

दोनों टीमों के नाम एक भी विश्व कप नहीं है। विश्व कप में दोनों टीमों का प्रदर्शन भी निराशाजनक रहा है।

Danik Bhaskar | Jun 17, 2018, 02:32 PM IST

मॉस्को. फीफा विश्व कप के 21वें संस्करण के ग्रुप-ई के पहले मुकाबले में आज कोस्टा रिका का सामना सर्बिया से समारा एरिना में होगा। खास बात ये है कि दोनों टीमों के नाम एक भी विश्व कप नहीं है। विश्व कप में दोनों टीमों का प्रदर्शन भी निराशाजनक रहा है। अंतिम-16 से आगे जाना दोनों ही टीमों के लिए चुनौती है।

कोस्टारिका का डिफेंस तगड़ा
- फीफा रैंकिंग में 25वें स्थान पर मौजूद कोस्टा रिका कप्तान ब्रायन रूइज और कोच ओस्कर रोमिरेज के मार्गदर्शन में टीम इस बार अपने पिछले प्रदर्शन से आगे बढ़ना चाहेगी। टीम ने कोनकाकैफ विश्व कप क्वालीफायर के मैच में त्रिनिदाद एवं टोबैगो और अमेरिका को हराकर विश्वकप का टिकट हासिल किया था।
- टीम की डिफेंस बेहद मजबूत नजर आ रहा है और वह अपने ग्रुप में ब्राजील जैसे अटैक को भी मुश्किल में डाल सकते हैं। स्पेनिश क्लब रियल मेड्रिड से खेलने वाले टीम के गोलकीपर केलोर नावास पर सबकी निगाहें टिकी होंगी जबकि केंडल वॉटसन, गियानकार्लो गोंजालेज एवं जॉनी अकोस्टा जैसे खिलाड़ियों के डिफेंस में होने से टीम और मजबूत नजर आ रही है।
- नावास टूर्नामेंट में टीम के लिए अहम साबित हो सकते हैं। कप्तान रूइज पर टीम के आक्रमण का दारोमदार होगा, लेकिन फारवर्ड लाइन में टीम को अच्छे खिलाड़ियों की कमी खलेगी। रूइज कोस्टा रिका के लिए 100 मैच खेलने से मात्र दो मैच दूर हैं। यह उनका 99वां मैच होगा। टीम में कोई शीर्ष स्तरीय स्ट्राइकर भी नहीं है जो विश्व कप जैसे बड़े टूर्नामेंट में कोस्टारिका के लिए चिंता का विषय है। जोएल कांप्वेल और मार्को यरेना दोनों ही स्ट्राइकर चोट के बाद टीम में वापसी कर रहे हैं, ऐसे में उनके लिए फारवर्ड को मजबूती दे पाना आसान नहीं होगा।

सर्बिया को युवाओं से उम्मीद
- अगर सर्बिया की बात की जाए तो वो 2014 में विश्व कप से बाहर रहने के बाद रूस में आ रही है। 2010 में दक्षिण अफ्रीका में यह टीम अपने ग्रुप में सबसे आखिरी में रही थी। टीम इस बार अपने पुराने प्रदर्शन को भूलाकर आगे बढ़ना चाहेगी। टीम का दारोमदार युवा कंधों पर है।
- सर्बिया की ताकत मिडफील्ड है जिसमें सेर्गेज मिनिलकोविक, लैजियो पर टीम का दारोमदार है। इन दोनों के अलावा टीम की जीत दिलाने का भार एलेक्जेंडर म्रिटोविक पर होगी। टीम के डिफेंस को भी भेद पाना कोस्टारिका के लिए आसान नहीं होगा।