--Advertisement--

विश्व कप: प्री-क्वार्टर फाइनल में अर्जेंटीना का मुकाबला फ्रांस से थोड़ी देर में, 40 से किसी दक्षिण अमेरिकी देश से नहीं हारा फ्रांस

अर्जेंटीना ने विश्व कप में फ्रांस को दो बार हराया है और दोनों बार फाइनल में पहुंची।

Dainik Bhaskar

Jun 30, 2018, 06:52 PM IST
गोल करने के बाद खुशी मनाते फ्र गोल करने के बाद खुशी मनाते फ्र

  • मेसी ने 2006 से 2018 तक सभी विश्व कप में गोल एसिस्ट किए, वे ऐसा करने वाले दुनिया के इकलौते खिलाड़ी हैं
  • फ्रांस लगातार 9 मैचों में किसी दक्षिण अमेरिकी टीम से नहीं हारा
  • 1986 से विश्व कप के किसी भी प्री-क्वार्टर फाइनल में फ्रांस को हार नहीं मिली
  • अर्जेंटीना की टीम अंतरराष्ट्रीय मैच में तीन गोल करने के बाद पहली बार हारी है
  • फ्रांस से हराने के बाद अर्जेंटीना के जेवियर माशेरानो ने अंतरराष्ट्रीय फुटबॉल से संन्यास लेने का एेलान किया
  • अर्जेंटीना के एंजेल डी मारिया ने 30.2 गज की दूरी से गोल किया, इस विश्व कप में यह सबसे दूरी से किया गया गोल है
  • 1998 के विश्व कप के बाद यह पहला मौका है, जब अर्जेंटीना ने किसी नॉकआउट मुकाबले में पेनल्टी पर गोल खाया हो
  • वह मुकाबला भी 30 जून को हुआ था। उस मैच के 10वें मिनट में इंग्लैंड ने एलन शियरर ने पेनल्टी को गोल में बदला था

कजान. विश्व कप में शनिवार को हुए पहले प्री-क्वार्टर फाइनल में फ्रांस ने अर्जेंटीना को 4-3 से हरा दिया। विश्व कप में अर्जेंटीना के खिलाफ फ्रांस की यह पहली जीत है। इससे पहले दोनों के बीच 2 मैच हुए। दोनों में अर्जेंटीना जीता था। फ्रांस के लिए एम्बाप्पे ने 64वें और 68वें मिनट में गोल किए। वहीं बेंजामिन पवार्ड ने 57वें और एंटोनी ग्रिजमैन ने 13वें मिनट में गोल किए। अर्जेंटीना के लिए एंजेल डी मारिया ने 41वें, लियोनेल मेसी के पास पर ग्रेब्रियल मर्काडो ने 48वें मिनट और एगुएरो ने इंजरी टाइम में 90+3 मिनट में गोल किए। मेसी ने विश्व कप में 8 नॉक आउट मैच में 756 मिनट बिताए लेकिन एक भी गोल नहीं कर सके। अब क्वार्टर फाइनल में 6 जुलाई को फ्रांस का सामना उरुग्वे से होगा। उरुग्वे ने पुर्तगाल को दूसरे प्री-क्वार्टर फाइनल में 2-1 से हराया।

एम्बाप्पे नॉक आउट मैच में 2 गोल करने वाले दूसरे सबसे कम उम्र के खिलाड़ी

एम्बाप्पे विश्व कप के नॉकआउट मैच में दो गोल करने वाले 20 साल से कम उम्र के दूसरे खिलाड़ी बने। इससे पहले ब्राजील के पेले ने 1958 में स्वीडन के खिलाफ फाइनल मैच में ऐसा किया था। उस समय उनकी 17 साल 249 दिन थी। उन्होंने मैच के 55वें और 90 में मिनट में गोल किया था। एम्बाप्पे ने अपने दोनों गोल मैच के दूसरे हाफ में किए हैं।

अर्जेंटीना के कप्तान मेसी विश्व कप के मैच में अपने देश के लिए दो गोल एसिस्ट करने वाले दूसरे खिलाड़ी बने। इससे पहले डिएगो मैराडोना ने 1986 में दक्षिण कोरिया के खिलाफ ऐसा किया था। एंजेल डी मारिया ने इस विश्व कप में सबसे ज्यादा दूरी से गोल किया। उन्होंने 41वें मिनट में 27.61 मीटर की दूरी से गेंद को गोलपोस्ट में डाल दिया। डी मारिया का ये दूसरा विश्व कप गोल है। इससे पहले 2014 में उन्होंने स्विट्जरलैंड के खिलाफ प्री-क्वार्टर फाइनल में ही गोल किया था।

अर्जेंटीना को मिले 5 यलो कार्ड, फ्रांस के मुकाबले 2 ज्यादा

टीम गोल का प्रयास कॉर्नर बॉल पजेशन पास पास एक्यूरेसी यलो कार्ड
फ्रांस 9 0 41% 354 84% 3
अर्जेंटीना 9 4 59% 549

86%

5

एमबाप्पे के लगातार 2 गोल बने मैच का टर्निंग प्वाइंट

पहला गोलः 11वें मिनट में अर्जेंटीना के मार्कोस रोजो ने फ्रांस के कीलियन एमबाप्पे को गिरा दिया। इस पर रेफरी ने रोजो को यलो कार्ड दिखाया और फ्रांस के पक्ष में पेनल्टी दे दी। 13वें मिनट में फ्रांस के एंटोनी ग्रीजमैन ने पेनल्टी पर शॉट लेकर उसे गोल में बदल दिया।
दूसरा गोलः 41वें मिनट में अर्जेंटीना के एंजेल डी मारिया ने 30.2 गज की दूरी से अपने बाएं पैर से गेंद को गोलपोस्ट का रास्ता दिखाया। फ्रांस के गोलकीपर हुगो लोरिस के पास इतना मौका नहीं था कि वे इसे रोक पाते।
तीसरा गोलः 48वें मिनट में लियोनेल मेसी ने इनसाइड एरिया में शॉट मारा। गेंद उनके साथ गैब्रिएल मर्काडो के पास पहुंची। मर्काडो ने इसे गोल की ओर मोड़ दिया और लोरिस जब तक कोशिश करते गेंद गोलपोस्ट में पहुंच चुकी थी।
चौथा गोलः 57वें मिनट में लुकास हर्नान्डेज के क्रास पर फ्रांस के बेंजामिन पवार्ड ने गोल किया। यह उनका विश्व कप और अंतरराष्ट्रीय स्तर का पहला गोल है।
पांचवां गोलः 64वें मिनट में फ्रांको अरमानी के पास पर कीलियन एमबाप्पे ने गोल कर फ्रांस को मैच में 1 गोल से आगे कर दिया। यही मैच का टर्निंग प्वाइंट भी रहा। इसके बाद से अर्जेंटीना की टीम बिखरी-बिखरी नजर आई।
छठा गोलः 68वें मिनट में ओलिवियर गिरूड के पास कीलियन एमबाप्पे ने शॉट लिया और अर्जेंटीना के गोलकीपर फ्रांको अरमानी उसे गोलपोस्ट में जाने से नहीं रोक सके।
सातवां गोलः (90+3)वें मिनट में अर्जेंटीना के सर्जियो एग्युरो ने बहुत दूर से गेंद को लाते हुए उसे गोलपोस्ट में पहुंचा दिया। उन्होंने इतनी तेजी से शॉट लिया कि फ्रांस के हुगो लोरिस को उसे रोकना नामुमकिन था।

टीमें:

फ्रांस: गोलकीपर: लोरिस, स्टीव मन्दंदा, अल्फोन्स एरोओला। डिफेंडर: लुकास हर्नान्डेज, प्रेसनेल किम्पेम्बे, बेंजामिन मेन्डी, बेंजामिन पावर्ड, आदिल रामी, जिब्रिल सिदीबे, सैमुअल उम्तीती, राफेल वरान। मिडफील्डर: एनगोलो कान्ते, ब्लेस मातुइदी, स्टीवन एंजोंजी, पॉल पोग्बा, कोरेंटिन टोलिसो। फारवर्ड: ओउस्मान डेम्बेले, नाबिल फकीर, ओलिवियर जीरू, एंटोनी ग्रीजमैन, थॉमस लेमार, कीलियन एमबाप्पे, फ्लोरियन थौविन।

अर्जेंटीना: गोलकीपर: विल्फ्रेडो काबालेरो, फ्रांको अमार्नी, नाहुएल गुजमान। डिफेंडर: गेब्रिएल मासेडरे, जेवियर माशेरानो, निकोल्स ओटामेंडी, फेडरिको फाजियो, मार्कोस रोजो, निकोल्स टागलियाफिको, क्रिस्टियन एंसाल्डी, मार्कोस अकुना। मिडफील्डर: लुकास बिगलिया, एडुआडरे साल्वियो, एवेर बानेगा, एंजेल डी मारिया, एंजो पेरेज, गियोवानी लो सेल्सो, मैक्सीमिलियानो मेजा। फॉरवर्ड: लियोनेल मेसी, सर्गियो एगुएरो, गोंजालो हिगुएन और पाउलो डाइबाला।

X
गोल करने के बाद खुशी मनाते फ्रगोल करने के बाद खुशी मनाते फ्र
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..