--Advertisement--

फीफा: 36 साल बाद विश्व कप खेलने उतरा पेरू दूसरे ही मैच में बाहर हुआ, फ्रांस ने 1-0 से हराया

फ्रांस के एम्बाप्पे विश्व कप में गोल करने वाले अपने देश के सबसे युवा खिलाड़ी (19 साल 183 दिन) बने।

Dainik Bhaskar

Jun 21, 2018, 10:52 PM IST
मैच में गोल करते फ्रांस के एम्बाप्पे। मैच में गोल करते फ्रांस के एम्बाप्पे।

  • 1978 में अर्जेंटीना से 2-0 से मिली हार के बाद से फ्रांस किसी भी दक्षिण अमेरिकी टीम से हारा नहीं है
  • 1978 के बाद से पेरू ने 8 मैच खेले लेकिन जीत नहीं मिली, आखिरी बार ईरान को हराया था

यूकेतारिनबर्ग. विश्व कप के ग्रुप सी में गुरुवार को फ्रांस ने पेरू को 1-0 से हरा दिया। उसने प्री क्वार्टर फाइनल में अपनी जगह पक्की की। वहीं, मैच हारने के कारण पेरू की प्री क्वार्टर फाइनल में पहुंचने की संभावनाएं खत्म हो गईं। पेरू की टीम 36 साल बाद विश्व कप खेलने उतरी थी। फ्रांस की ओर से 34वें मिनट में 19 साल के एम्बाप्पे ने गेंद को गोलपोस्ट में पहुंचाया। एम्बाप्पे से पहले फ्रांस की ओर से सबसे कम उम्र में गोल करने का रिकॉर्ड डेविड ट्रेजेगुएट (20 साल 246 दिन) के नाम था। फ्रांस ने 1998 में विश्व कप जीता था। एम्बाप्पे ऐसे खिलाड़ी भी बने जिसने फ्रांस की उस जीत के बाद जन्म लिया है।

फ्रांस को मिला मैच का पहला यलो कार्ड

मैच का पहला यलो कार्ड फ्रांस के मतुइदी को 16वें मिनट में दिया गया। 19वें मिनट में पेरू को फ्री किक दी गई लेकिन वे गोल करने में नाकाम रहे। 22वें मिनट में पेरू के गुएरेरो को यलो कार्ड मिला। पेरू ने 46वें मिनट में दो बदलाव किए। उसने युतून की जगह फरफान और रोड्रिगेज की जगह संतामारिया को मैदान पर उतारा। उसके बाद उसने 82वें मिनट में कुएवा की जगह रुडियाज भेजे गए। 81वें मिनट में पेरू के ऑकिनो को रेफरी ने यलो कार्ड दिखाया। फ्रांस ने 75वें मिनट में एम्बाप्पे की जगह डेम्बेले, 80वें मिनट में ग्रीजमैन की जगह फकीर और 89वें मिनट में पोग्बा की जगह जोन्जी को मैदान पर उतारा। इससे पहले पोग्बा को 86वें मिनट में यलो कार्ड भी मिला था।

पेरू ने गोल करने के 10 प्रयास किए लेकिन हर बार नाकाम रहा

टीम गोल का प्रयास कॉर्नर बॉल पजेशन पास पास एक्यूरेसी
फ्रांस 12 5 44% 409 76%
पेरू 10 3 56%

528

81%

विश्व कप में 21 जून को खेले हर मैच में जीता है फ्रांस

यह तीसरा विश्व कप है जब फ्रांस ने 21 जून को अपना मैच खेला। 1982 में उसने इसी दिन हुए मुकाबले में कुवैत को 4-1 से हराया था। वहीं, 1986 में 21 जून को हुए क्वार्टर फाइनल में उसने ब्राजील को बाहर का रास्ता दिखाया था। 40 साल पहले 21 जून के दिन पेरू को विश्व कप में सबसे बड़ी हार का सामना करना पड़ा था। तब उसे दूसरे दौर में अर्जेंटीना ने 6-0 से हराया था। किसी दक्षिण अमेरिकी टीम के खिलाफ फ्रांस ने अब तक 14 मैच खेले हैं। इनमें से उसने 5 जीते और 5 हारे हैं। आखिरी बार 1978 में अर्जेंटीना ने 2-0 से हराया था।

अंक तालिका- ग्रुप सी

देश मैच खेले जीते हारे ड्रॉ अंक
फ्रांस 2 2 0 0 6
डेनमार्क 2 1 1 0 4
ऑस्ट्रेलिया 2 0 1 1 1
पेरू 2 0 2 0 0

टीमें:

पेरू (शुरुआती एकादश): गालेसे, रोड्रिगुएज, ट्राकुओ, रामोस, एडविनकुला, कुएवा, युतोन, एक्विनो, पाओलो गुएरेरो, आंद्रे कारिलो, एडिसन फ्लोरेस।

फ्रांस (शुरुआती एकादश): लॉरिस, पावर्ड, वरान, उम्तीती, हर्नांडेज, पोग्बा, कांते, मतुइदी, ग्रीजमैन, गेरार्ड, एम्बाप्पे।

मैच के दौरान फ्रांस के पॉल पोग्बा (नीली जर्सी में) और पेरू के कुएवा। मैच के दौरान फ्रांस के पॉल पोग्बा (नीली जर्सी में) और पेरू के कुएवा।
मैच देखने पहुंचा पेरू की टीम का एक प्रशंसक। मैच देखने पहुंचा पेरू की टीम का एक प्रशंसक।
X
मैच में गोल करते फ्रांस के एम्बाप्पे।मैच में गोल करते फ्रांस के एम्बाप्पे।
मैच के दौरान फ्रांस के पॉल पोग्बा (नीली जर्सी में) और पेरू के कुएवा।मैच के दौरान फ्रांस के पॉल पोग्बा (नीली जर्सी में) और पेरू के कुएवा।
मैच देखने पहुंचा पेरू की टीम का एक प्रशंसक।मैच देखने पहुंचा पेरू की टीम का एक प्रशंसक।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..