--Advertisement--

विश्व कप: प्री-क्वार्टर फाइनल में एकमात्र एशियाई टीम जापान का मुकाबला बेल्जियम से थोड़ी देर में

आखिरी बार दोनों टीमें नवंबर 2017 में आमने-सामने हुईं थी। जिसमें बेल्जियम ने 1-0 से जापान को हराया था।

Dainik Bhaskar

Jul 02, 2018, 10:40 PM IST
बेल्जियम ने चाडली को शुरुआती ए बेल्जियम ने चाडली को शुरुआती ए

  • जापान 1998 से विश्व कप खेल रहा है, लेकिन कभी क्वार्टर फाइनल में नहीं पहुंचा
  • हारागुची ने जापान के लिए विश्व कप में नॉक आउट दौर का पहला गोल किया
  • इस विश्व कप में जापान ने अब तक 6 गोल किए, उसके लिए किसी विश्व कप में ये सबसे ज्यादा गोल

रोस्तोव ऑन दोन (रूस). विश्व कप में सोमवार को खेले गए छठे प्री-क्वार्टर फाइनल मैच में बेल्जियम ने जापान को 3-2 से हरा दिया। इस जीत के साथ ही बेल्जियम 32 साल बाद क्वार्टर फाइनल में पहुंचा। वहीं, जापान का विश्व कप में पहली बार क्वार्टर फाइनल में पहुंचने का सपना टूट गया। निर्धारित सयम तक दोनों टीमें 2-2 से बराबरी पर थीं। ऐसा लग रहा था कि मैच एक्सट्रॉ टाइम में जाएगा, लेकिन बेल्जियम के नेसर चाडली ने इंजरी टाइम खत्म होने के 17 सेकंड पहले 90+4 मिनट में गोल कर टीम को जीत दिला दी। इससे पहले जापान के जेनकी हारागुची ने 48वें और ताकाशी इनुई ने 52वें मिनट में गोल किया। वहीं, बेल्जियम के लिए वर्टोंगन ने 69वें और फेलैनी ने 74वें मिनट में गोल किया था।

फेलैनी के गोल ने बेल्जियम को बराबरी दिलाई

पहला गोल: हाफ टाइम तक दोनों टीमें 0-0 की बराबरी पर थी। 48वें मिनट में जापान के हारागुची बेल्जियम के डिफेंडर वर्टोंगन को पछाड़ते हुए गोलपोस्ट तक पहुंचे और गोलकीपर थिबॉट कटरेआ के बगल से गेंद को गोलपोस्ट में डाल दिया। ये जापान के लिए विश्व कप के किसी भी नॉक आउट मुकाबलों में पहला गोल था।

दूसरा गोल: 52वें मिनट में जापान ने दूसरा गोल किया। कगावा के पास पर इनुई ने 23 मीटर की दूरी से गेंद को सीधे गोलपोस्ट में पहुंचाया। इनुई का इस विश्व कप में यह दूसरा गोल था।

तीसरा गोल: 68 मिनट तक ऐसा लग रहा था कि जापान इस मैच को 2-0 से जीत लेगा लेकिन बेल्जियम ने 69वें मिनट में गोल कर दिया। यह गोल वर्टोंगन ने 14 मीटर की दूरी से किया।

चौथा गोल: इसके बाद बेल्जियम ने ताबड़तोड़ हमले शुरू कर दिए। 74वें मिनट में लेफ्ट विंग से ईडेन हेजार्ड के क्रॉस पर फेलैनी ने गोल कर टीम को बराबरी दिला दी। फेलैनी को बेल्जियम ने शुरुआती एकादश में शामिल नहीं किया था। वे रिप्लेसमेंट के तौर पर मैदान पर आए थे।

पांचवां गोल: यह गोल इस मैच का निर्णायक गोल साबित हुआ। निर्धारित समय तक 2-2 की बराबरी पर चल रहे मैच में रेफरी ने 4 मिनट का इंजरी टाइम दिया। इंजरी टाइम के शुरुआती 3 मिनट तक कोई गोल नहीं हुआ। मैच का एक्सट्रा टाइम में जाना तय लग रहा था, आखिरी मिनट के भी 43 सेकंड हो चुके थे, तभी बेल्जियम के रोमेलू लुकाकू के पास पर चाडली ने गोल कर टीम को क्वार्टर फाइनल में पहुंचा दिया।

48 साल बाद दो गोल से पिछड़ने वाली टीम जीती: बेल्जियम 1970 के बाद नॉक आउट दौर में 0-2 से पिछड़ने के बाद मैच जीतने वाली पहली टीम बन गई। इससे पहले पश्चिमी जर्मनी ने इंग्लैंड को 48 साल पहले हराया था। बेल्जियम की टीम इस विश्व कप में एक भी मैच नहीं हारी है। इसके अलावा वह पिछले 23 अंतरराष्ट्रीय मैच में अपराजेय रही है।

बेल्जियम ने एक साथ किए दो बदलाव: मैच का पहला यलो कार्ड 40वें मिनट में जापान के शिबासाकी को मिला। बेल्जियम ने मैच में बदलाव करते हुए 65वें मिनट में मार्टेंस की जगह फेलैनी को और कारासाको की जगह चाडली को मैदान पर उतारा। वहीं, जापान ने भी एक साथ दो बदलाव करते हुए 81वें मिनट में हारागुची की जगह होंडा और शिबासाकी की जगह यामागुची को मैदान पर उतारा।

जापान के मुकाबले बेल्जियम ने 165 पास ज्यादा किए

टीम गोल का प्रयास कॉर्नर बॉल पजेशन पास पास एक्यूरेसी यलो कार्ड
बेल्जियम 24 10 56% 618 87% 0
जापान 11 6 44% 453

83%

1

टीमें:

जापान (शुरुआती एकादश): ईजी कावाशिमा, जनरल शोजी, यूटो नागाटोमो, गाकू शिबासाकी, जेनकी हारागुची, शिनजी कागावा, ताकाशी इनुई, यूया ओसाको, मकोटो हसाबे, हिरोकी साकाई, माया योशिदा।
बेल्जियम (शुरुआती एकादश): थिबॉट कटरेआ, टोबी आल्डरवाइल्ड, विंसेंट कोंपेनी, जन वर्टोंगन, एक्सेल विस्टल, केविन डी ब्रुइन, रोमेलू लुकाकू, ईडन हेजार्ड, यानिक करास्को, डिरेस मर्टेंस, थॉमस मनियर।

X
बेल्जियम ने चाडली को शुरुआती एबेल्जियम ने चाडली को शुरुआती ए
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..