सेक्टर-45 की गऊशाला में चारे का संकट, एक हजार गायों के भूखों मरने की आई नौबत

News - शहर की तीन गउशालाओं में करीब दो हजार गाय हैं। इनमें दाे गऊशाला में पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था पूर्णतौर पर है,...

Mar 27, 2020, 07:16 AM IST

शहर की तीन गउशालाओं में करीब दो हजार गाय हैं। इनमें दाे गऊशाला में पशुओं के लिए चारे की व्यवस्था पूर्णतौर पर है, लेकिन सेक्टर-45 की गऊशाला में करीब 1000 से अधिक गाय हैं, वहां पर चारे का संकट खड़ा हो गया है। इसके चलते पशुओं के भूखों मरने की नौबत आ खड़ी हुई है। गऊशाला सेक्टर-45 में गाैरी शंकर सेवा दल के वाइस प्रेसिडेंट विनाेद कुमार ने बताया कि यहां पर 1000 से अधिक गाय के लिए चारा पंजाब से अाता है अाैर ज्यादातर चारा लाेगाें ही देते थे। लेकिन कर्फ्यू के कारण दानियों का अाना बंद हो गया है।

गऊशाला में राेजाना गऊअाें का 70 से 80 हजार खर्चा रहता है, इसमें हरा चारा, सूखी तूडी पीसा हुअा सतनाजा, मेडिसिन और सेवादाराें का खर्च शामिल है। पंजाब से चंडीगढ़ अाना बंद है, इसलिए पंजाब से चारा भेजते थे, रेट भी बढ़ गए, वहां से अा नहीं रहे। चंडीगढ़ में इतनी व्यवस्था नहीं है। गऊशाला का संचालन गौरीशंकर सेवादल सभी भक्तों के सहयोग से पिछले कई साल से करता आ रहा है। इस समय कोरोना वायरस की वजह से सरकार की ओर से कर्फ्यू लगाया गया है, इसलिए गो भक्तों का गौशाला में न पहुंच पाना गौमाता का हरा चारा, सूखा भूसा की भारी कमी हुई है।

}सेक्टर-25 और मलोया में अभी स्थिति ठीक | सेक्टर-25 की गऊशाला की फांउडर पायल साेढ़ी ने बताया कि उनकी गऊशाला में लगभग 360 गाय हंै लेकिन उनके यहां पर चंडीगढ़ सेक्टर-25 अाैर धनास से चारा अाता है इसलिए किसी तरह की काेई परेशानी नहीं है। हां गऊशाला में लाेग कम अा रहे हैं क्याेंकि शहर में कर्फ्यू लगा हुअा है। चारे, तूड़ी अाैर मेडिसिन सबकी व्यवस्था ठीक चल रही है। शिरडी साईं समाज मलाेया गऊशाला के प्रेसिडेंट राजेश कालिया ने बताया कि उनके यहां पर 525 के अासपास गाय हैं जिनके लिए चारा चंडीगढ के अासपास से ही अाता है, ऐसे में उनके यहां अभी काेई दिक्कत नहीं अा रही। ग्रीन चारा रोजाना 40 से 45 क्विंटल अा रहा है। यूटी के गांव से दूसरी तरफ गऊशाला में फीड मील अपनी लगाई हुई है, तूडी के साथ फीड भी दे सकते हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना