--Advertisement--

एमपी में पहली बार जापानी बुखार से दो बच्चों की मौत, जापानी बुखार क्या है ? कैसे बचें ?

एमपी में पहली बार जापानी बुखार से दो बच्चों की मौत, जापानी बुखार क्या है ? कैसे बचें ?

Dainik Bhaskar

Jun 12, 2018, 02:48 PM IST

एमपी के भोपाल में हमीदिया हॉस्पिटल में जैपनीज इनसिफेलाइटिस बुखार से दो बच्चों की मौत हो गई। पहली बार भोपाल में जेई बुखार से दो बच्चों की मौत के बाद स्वास्थ्य विभाग ने अलर्ट जारी किया है। साथ ही सभी नर्सिंग हाेम्स के डॉक्टर्स को सर्दी, खांसी और बुखार से पीड़ित बच्चों की जांच जेई गाइडलाइन से करने के निर्देश दिए हैं। District Malaria Officer अखिलेश दुबे ने बताया कि जापानी बुखार क्यूलेक्स मच्छर के काटने से होता है। इस बुखार का संक्रमण सबसे ज्यादा बच्चों को होता है। भोपाल में इस बीमारी के संक्रमण को काबू करने 16 एंटी लार्वा सर्वे टीमें बनाई गई हैं। यह टीमें रोजाना डोर - टू - डोर सर्वे कर लोगों को क्यूलेक्स मच्छर की पहचान और लार्वीसाइट का छिड़काव कर मच्छरों के लार्वा खत्म करेंगी।

पहचान के लक्षण

सिर दर्द के साथ हल्का बुखार।

संक्रमण बढ़ने पर तेज बुखार, सिर दर्द।

गर्दन में अकड़न, शरीर में ऐंठन, मानसिक निष्क्रियता

मरीज का सुस्त होना। सांस लेने में तकलीफ होना

ऐसे रखे सावधानी

साफ-सफाई से रहें

गंदे पानी के संपर्क में आने से बचना होगा

घरों के आस पास पानी न जमा होने पाए खासकर बारिश के मौसम में बच्चों को बेहतर खान-पान रखें

बच्चों में ये रोग ज्यादा दिखने को मिलता है, ऐसे में कोशिश करें कि बच्चों को पूरे कपड़े ही पहनाएं ताकि उनका शरीर ढका रहे.

मच्छरों से बचाव करें घर में हिट का उपयोग करना ना भूलें

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended